DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

वित्त मंत्री जेटली ने मानसून को लेकर आशंकाओं को नहीं दी तवज्जो

वित्त मंत्री जेटली ने मानसून को लेकर आशंकाओं को नहीं दी तवज्जो

वित्त मंत्री अरुण जेटली ने कमजोर मानसून को लेकर व्यक्त की जा रही आशंकाओं को दूर करते हुए कहा कहा कि ऐसे अनुमान के आधार पर मुद्रास्फीति या फिर दूसरे संकट के बारे में किसी निष्कर्ष पर पहुंचना अतिश्योक्ति होगी।

जेटली ने कहा कि पिछले 48 घंटों और जब से भारतीय मौसम विभाग ने मानसून की कमी को लेकर पूर्वानुमान घोषित किया है, अतिश्योक्तिपूर्ण तरीके से निष्कर्ष लगाये जा रहे हैं, इसलिये इस विषय पर वित्त मंत्रालय के विचारों को व्यक्त करना जरूरी हो गया था। 

शेयर बाजार में पिछले तीन दिन से जारी गिरावट को रक्षान मानने से इनकार करते हुये वित्त मंत्री ने कहा कि विशेषतौर पर अप्रत्यक्ष करों का राजस्व संग्रह-एक मुख्य संकेतक ने प्रभावी उछाल दिखाया है।

जेटली ने विश्वास व्यक्त किया कि उत्तर-पश्चिम क्षेत्र में मानसून कमजोर रहने के पुर्वानुमान से खाद्यान्न उत्पादन प्रभावित नहीं होगा। उन्होंने कहा कि यह क्षेत्र सिंचाई सुविधाओं से युक्त है जबकि देश के दूसरे क्षेत्रों में मानसून सामान्य रहेगा। इसके अलावा किसी भी आपात स्थिति से निपटने के लिये देश में काफी खाद्यान्न भंडार है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:वित्त मंत्री जेटली ने मानसून को लेकर आशंकाओं को नहीं दी तवज्जो