good monsoon makes indian auto industry to shine at a new high - ऑटो इंडस्ट्री में दिखी 9 फीसदी की ग्रोथ, टू-व्हीलर भी बिके खूब 1 DA Image
15 दिसंबर, 2019|1:34|IST

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

ऑटो इंडस्ट्री में दिखी 9 फीसदी की ग्रोथ, टू-व्हीलर भी बिके खूब

ऑटो इंडस्ट्री में दिखी 9 फीसदी की ग्रोथ, टू-व्हीलर भी बिके खूब

अच्छे मानसून तथा ग्राहकों की अवधारणा में सुधार से ऑटो इंडस्ट्री में सुधार देखने को मिला और यह पटरी पर लौट आया है। अगस्त में लगातार दूसरे महीने कारों की बिक्री नौ फीसदी से ज्यादा बढ़ी है। वहीं ग्रामीण अर्थव्यवस्था में सुधार से टू-व्हीलर वाहनों की बिक्री में भी 26 फीसदी की बढ़ोतरी देखने को मिली है।

सियाम ने जारी किए अगस्त के आंकड़े

वाहन निर्माता उद्योगों के संगठन सियाम द्वारा जारी आँकड़ों के अनुसार,  अगस्त में देश में कुल 1,77,829 कारें बिकीं जो पिछले साल अगस्त के 1,62,36० की तुलना में 9.53 फीसदी अधिक है। उपयोगी वाहनों की बिक्री भी 47.38 फीसदी बढ़कर 65,745 पर पहुँच गई। यह लगातार 11वें महीने बढ़ी है। इससे फरवरी के बाद से इसकी वृद्धि दर 20 फीसदी से ऊपर बनी हुई है। कारों, वैनों तथा उपयोगी वाहनों समेत यात्री वाहनों की कुल बिक्री 16.68 फीसदी बढ़कर 2,58,722 पर पहुँच गई।

बिक्री में 12 फीसदी की बढ़त होने की उम्मीद

सियाम के महानिदेशक विष्णु माथुर ने बताया कि पहले पाँच महीने के अच्छे प्रदर्शन को देखते हुये चालू वित्त वर्ष में यात्री वाहनों की बिक्री 12 प्रतिशत तक बढ़ने की उम्मीद है। सियाम ने‘लुकिंग ऐट कॉन्क्लेव’में यह वृद्धि दर छह से आठ प्रतिशत रहने का पूर्वानुमान जताया था। उन्होंने कहा कि अप्रैल से अबतक यात्री वाहनों की बिक्री 10.74 प्रतिशत बढ़ी है। त्योहारी मौसम की बिक्री अभी बाकी है। इसलिए, अब दहाई अंक की बढ़ोतरी की उम्मीद की जा सकती है।

दिख रहा है सुधार

वाहन उद्योग में सुधार की प्रक्रिया अब मजबूत होती दिख रही है। पहले पाँच महीने के आँकड़े देखें तो सभी श्रेणी के वाहनों की बिक्री बढ़ी है। हालाँकि, अगस्त में मध्यम तथा भारी वाहनों की घरेलू बिक्री में जरूर कमी आई है।

ऑटो इंडस्ट्री में दिखी 9 फीसदी की ग्रोथ, टू-व्हीलर भी बिके खूब
ऑटो इंडस्ट्री में दिखी 9 फीसदी की ग्रोथ, टू-व्हीलर भी बिके खूब

अच्छा मानसून भी बना बड़ा कारण

माथुर ने कहा कि यात्री वाहनों की बिक्री बढ़ने में कुछ कंपनियों के चुनिंदा मॉडलों का काफी अहम योगदान है। लेकिन, वाहन उद्योग के लिए अच्छी खबर यह है कि माँग आ रही है। लोग निजी वाहन खरीद रहे हैं। इसके पीछे अच्छे मानसून का बहुत बड़ा योगदान है। साथ ही सातवें वेतन आयोग के लागू होने का भी असर दिख रहा है।

उन्होंने कहा, 'हम स्थिति पर नजर बनाये हुये हैं और कंपनियों से लगातार बात कर रहे हैं। वे भी अपना वृद्धि का अनुमान बढ़ा रही हैं।'

22 फीसदी बढ़ी मोटर साइकिल की बिक्री

ग्रामीण अर्थव्यवस्था में मजबूती का सबसे बड़ा प्रभाव मोटर साइकिलों पर दिखा है। अगस्त में इनकी बिक्री 22.19 फीसदी बढ़कर 10,05,666 पर पहुँच गई। यह सिर्फ सातवाँ मौका है जब मोटर साइकिलों की बिक्री 10 लाख के पार पहुँची है। इस साल अप्रैल में यह 10,24,926 रही थी। स्कूटर तथा स्कूटी का अच्छा प्रदर्शन जारी है। इसकी बिक्री 32.92 फीसदी बढ़कर 5,67,782 इकाई हो गई। मोटर साइकिल, स्कूटर एवं स्कूटी तथा मोपेड समेत दुपहिया वाहनों की कुल बिक्री 26.32 फीसदी के इजाफे के साथ 16,48,883 पर पहुँच गई।

भारी तथा मध्यम वाणिज्यिक वाहनों की बिक्री 10.76 फीसदी घटकर 20,537 रह गई। हल्के वाणिज्यिक वाहनों की बिक्री 11.22 फीसदी बढ़कर 32,459 पर पहुँच गई। तिपहिया वाहनों की बिक्री में 9.01 फीसदी का इजाफा हुआ और यह 50,193 इकाई रही।

सभी श्रेणी के सभी वाहनों की कुल बिक्री 23.72 प्रतिशत बढ़कर 20,10,794 पर पहुँच गई। वहीं, दुपहिया वाहनों का निर्यात 21.89 प्रतिशत घटने से कुल निर्यात 14.52 फीसदी गिरकर 3,०9,215 इकाई रह गया। हालाँकि, कारों (23.25 फीसदी) समेत यात्री वाहनों का निर्यात 26.98 फीसदी बढ़ा है। वाणिज्यिक वाहनों के निर्यात में भी 7.46 फीसदी की वृद्धि हुई।

ऑटो इंडस्ट्री में दिखी 9 फीसदी की ग्रोथ, टू-व्हीलर भी बिके खूब
  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:good monsoon makes indian auto industry to shine at a new high