DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

नयी तकनीक से कम लागत में बनाएं आधुनिक घर

नयी तकनीक से कम लागत में आधुनिक घर बनाएं। ज्यादा लोहा या सिमेंट देने से घर मजबूत नहीं होते। एक निश्चित अनुपात में ही निर्माण सामग्री लगाने से उत्तम क्वालिटी के घर बनेंगे। खासकर पीलर में लोहे के छल्ला (रिंग) के छोरों को 135 डिग्री पर मोड़कर बांधने से घर की ताकत डेढ़ गुण बढ़ती है। बिहारशरीफ नगर निगम सभागार में सोमवार को बीएमटीपीसी (बिल्डिंग मैटेरियल्स एंड टेक्नोलोजी प्रोमोशन काउन्सिल) के एक्सक्युटिव डायरेक्टर डॉ. शैलेश कुमार अग्रवाल ने ये बातें कहीं।

भारत सरकार के आवास शहरी गरीबी उपशमन मंत्रालय द्वारा चलाए जा रहे हाउस फॉर ऑल योजना की जानकारी देते हुए उन्होंने कहा कि आज के दौर में भूकंपरोधी मकान बनाने चाहिए। इसके लिए मकान में बीम (पीलर) देना जरूरी है। प्लींथ (भूसतह पर चारों ओर ढ़लाई) व डोर लेवल पर चारों ओर दो छड़ से ही ढलाई करने पर घर की मजबूती काफी बढ़ जाती है। राजमिस्त्री व लाभार्थियों को ढ़लाई में भी बड़े (पौन इंच साइज) व छोटे गिट्टी को मिलाकर एक डेढ़ व तीन के अनुपात में सिमेंट, गिट्टी व बालू मिलाने को कहा। इस मौके पर बीएमटीपीसी के डिप्टी चीफ सीएम झा, मेयर सुधीर कुमार, उप नगर आयुक्त विजय कुमार उपाध्याय, उपमेयर शंकर कुमार, लाभार्थी अवधेश गोसाई, महेंद्र पासवान, अरविंद कुमार महतो, शबनम आरा, मुनेश्वर राम, राजमिस्त्री अशोक कुमार व अन्य मौजूद थे।

छह से आठ इंच पर बांधे आठ एमएम की रिंग

डॉ. अग्रवाल ने बीम में हमेशा कम से कम आठ एमएम छड़ से बने रिंग का ही छह से आठ इंच की दूरी पर लगाने को कहा। घर बनाने में ज्यादा पीलर देने से ज्यादा मजबूती नहीं आती। इसकी जगह सही अनुपात व तरीके से मैटेरियल्स लगाने से ज्यादा सुंदर व मजबूत भवन बनता है। घर बनाते समय जल निकासी व हवादार के मानक को भी ध्यान में रखने की अपील की।

36 फ्लैट बन रहे नई तकनीक से

नगर आयुक्त कौशल कुमार ने बताया कि बिहारशरीफ के मंगलास्थान मोहल्ले में नयी तकनीक से 36 फ्लैट बनाए जा रहे हैं। इसमें लगभग 30 फीसदी लागत कम आएगी। अभी फिलहाल इसे प्रोजेक्ट के तौर पर बनाया जा रहा है। इसकी सफलता के बाद इस तकनीक का विस्तार किया जाएगा। इससे लोग कम लागत में बेहतर सुविधा वाले आधुनिक भवन बना सकेंगे। यह तीन तल्ला भवन पूरी तरह नयी तकनीक पर आधारित व भूकंपरोधी बनाया जा रहा है।

हाउस फॉर ऑल के तहत 16 घर बनकर तैयार

शहर मे हाउस फॉर ऑल के तहत पहले चरण में 396 लोगों का चयन किया गया था। इनमें से 16 लाभार्थियों के घर बनकर तैयार हो चुके हैं। 82 घरों का निर्माण जारी हैं। शेष चयनित लोगों के लिए आगे की कागजी प्रक्रिया चल रही है। उप नगर आयुक्त श्री उपाध्याय ने बताया कि दूसरे चरण के लिए दो हजार 625 लाभार्थियों का चयन हुआ है। इनकी सूची बनाकर विभाग को स्वीकृति के लिए भेजा जा चुका है। वहां से फरवरी अंत तक स्वीकृति मिल जाएगी। इसके बाद दूसरे चरण का काम शुरू हो जाएगा।

कैसे मिलेगा योजना का लाभ

इसके लिए चयनित लोगों को अपनी निजी जमीन पर पक्के मकान के लिए केंद्र सरकार एक लाख 50 हजार व राज्य सरकार 50 हजार रुपये देती है। ये दो लाख रुपये तीन चरण में लाभार्थी को दिया जाता है। पहले चरण में प्लींथ तक काम करने के लिए 50 हजार, आगे के निर्माण के लिए एक लाख व कंपलीट करने के लिए तीसरे चरण में 50 हजार रुपये मिलते हैं।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:Make low cost advance home ny new technology