DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

राजनीति में धर्म व जाति को मुद्दा नहीं बनाते: रामविलास

केन्द्रीय खाद्य एवं सार्वजनिक वितरण मंत्री रामविलास पासवान ने कहा कि हम राजनीति में धर्म और जाति को मुद्दा नहीं बनाते हैं। नरेन्द्र मोदी की सरकार केवल विकास की बात करती है। हम ढोल नहीं बजाते हैं, काम करते हैं। अभी देश में अल्पसंख्यक जितने सुरक्षित हैं, पहले कभी नहीं रहे। एक साल में कहीं अशांति नहीं हुई।

केन्द्रीय मंत्री पासवान ने गुरुवार को पटना में आयोजित प्रेस कॉन्फ्रेंस में कहा कि लालू प्रसाद और नीतीश कुमार के अलावा कांग्रेस को भी यह बताना चाहिए उनकी धर्मनिरपेक्षता वर्ष 2005 में कहां थी। उस समय हमने कहा था कि जो मुसलमान को सीएम बनाएगा, हम उसी को समर्थन देंगे, लेकिन किसी ने इसकी पहल नहीं की। कांग्रेस बताए कि भागलपुर की घटना किसके राज में हुई। देश में सिखों पर हमला किसके राज में हुआ। मंडल के मसीहों से पूछा जाए कि मंडल कमीशन किसने लागू किया। लालू प्रसाद, राबड़ी देवी और नीतीश कुमार ने 25 साल तक बिहार में शासन किया और इस अवधि में राज्य का सर्वनाश कर दिया।

भूमि अधिग्रहण कानून बिहार के लिए बलिदान है। उसमें विकल्प है, बिहार सरकार को नहीं लागू करना है, मत करे। अब तक सूई का कारखाना नहीं लगा आगे भी यही होगा। रेलवे के लिए राज्य में जमीन अधिग्रहण किया तो किसानों को कितना पैसा मिला। एक सवाल के जवाब में उन्होंने कहा कि मुख्यमंत्री का नाम वहां तय होता है, जहां झगड़ा होता है। एनडीए में कोई विवाद नहीं है, कोई भी सीएम बन सकता है। यह पूछे जाने पर कि क्या आप भी रेस में हैं। उन्होंने इनकार किया और कहा कि इस मामले में हमने पहले ही तय कर दिया है कि भाजपा ही सीएम तय करेगी। जीतन राम मांझी के बारे में पूछने पर उन्होंने कहा कि वह जाने कहां जाएंगे। हम दलित और महादलित में कोई फर्क नहीं मानते। यह तो नीतीश कुमार को खेल है।

 

 

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:राजनीति में धर्म व जाति को मुद्दा नहीं बनाते: रामविलास