DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

पचास रुपए भी नहीं मिले केन्द्र से: नीतीश

पचास रुपए भी नहीं मिले केन्द्र से: नीतीश

मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने गुरुवार को कहा कि केंद्रीय पथ परिवहन एवं राजमार्ग मंत्री नितिन गडकरी लगातार दावे कर रहे हैं कि बिहार की सड़कों के लिए 50 हजार करोड़ दिए गए हैं, जबकि हकीकत यह है कि पचास रुपए भी नहीं मिले हैं। राष्ट्रीय राजमार्ग (एनएच) की परियोजनाओं के लिए तय 400 करोड़ का भी अता-पता नहीं है। गुरुवार को मुख्यमंत्री सचिवालय स्थित संवाद कक्ष में आयोजित एक कार्यक्रम में सीएम ने यह बात कही।

मुख्यमंत्री ने कहा कि इन दिनों दिल्ली से आकर केंद्रीय मंत्री तरह-तरह की बातें बोलते हैं। हम केंद्र सरकार से पूछना चाहते हैं कि पटना-आरा-बक्सर एनएच का निर्माण कब होगा? बख्तियारपुर-खगड़िया सड़क कब तक बनेगी? पटना-हाजीपुर-छपरा-मांझी सड़क का निर्माण कब होगा? कहलगांव-पीरपैंती सड़क का क्या हुआ? और फिर पिपराकोठी-मोतिहारी-छपवा-रक्सौल सड़क के निर्माण कब शुरू होगा? पिपराकोठी से रक्सौल तक जाने वाली सड़क अंतरराष्ट्रीय महत्व की है। भारत और नेपाल के बीच सड़क मार्ग से जो कारोबार होता है, उसका 70 प्रतिशत हिस्सा इसी सड़क मार्ग से होता है। कम से कम इस सड़क को मोटरेबल तो बना दें।

मुख्यमंत्री ने कहा कि केंद्र सरकार के मंत्रियों के पास इतना बड़ा भोंपू है कि उसे वे चारों तरफ से बजाएंगे। यह ठीक है क्योंकि यह आवाज शोर में परिवर्तित हो जाएगी और लोग झल्ला जाएंगे। उन्होंने कहा कि केंद्र सरकार की जुबान बोलने वाले यहां के एक नेता मेरे द्वारा किए गए शिलान्यास के बोर्ड पर टिप्पणी करते रहते हैं। सच्चाई यह है कि वह नेता जब मेरे साथ थे तो किसी कार्यक्रम में जाते नहीं थे, पर 90 प्रतिशत शिलान्यास पटों में उनका नाम रहता था। मेरी दिलचस्पी शिलान्यास पट्टिकाओं में नाम दर्ज कराने की नहीं, बल्कि मैं तो अपने काम से लोगों के दिलों में अपनी जगह बनाना चाहता हूं।

 

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:पचास रुपए भी नहीं मिले केन्द्र से: नीतीश