DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

विलय नहीं गठबंधन होगा वो भी तब जब नीतीश होंगे सीएम: जेडीयू

विलय नहीं गठबंधन होगा वो भी तब जब नीतीश होंगे सीएम: जेडीयू

विलय की बात अब खत्म हो गई है। जदयू के साथ अब किसी भी दल का गठबंधन ही होगा, लेकिन यह तभी संभव होगा जब इस गठबंधन में शामिल होने वाले दल नीतीश कुमार को नेता मानेंगे। बिना नीतीश कुमार को नेता माने कोई भी गठबंधन कबूल नहीं होगा। वैसे मैं दिल्ली से आ रहा हूं। दिल्ली में गठबंधन के लिए आज ही बैठक हो रही है। संभव है, सुखद परिणाम आज ही सामने आ जाये। ये बातें जदयू के प्रदेश अध्यक्ष व सांसद वशिष्ठ नारायण सिंह ने रविवार को जूरनछपरा में पार्टी कार्यकर्ताओं को संबोधित करते हुए कहीं। वे विधानसभा चुनाव की तैयारियों का आगाज करने आये थे। 

श्री सिंह ने कहा कि नेता का चेहरा और उसका काम महत्वपूर्ण होता है। जब विलय की बात चली तो हमने संयम रखा। पार्टी के सांगठनिक कार्यक्रमों को भी स्थगित रखा। विलय के लिए पूरी निष्ठा से प्रयास किये। लेकिन जब तय हो गया कि विलय नहीं गठबंधन होगा, तब हमलोगों ने दल की सक्रियता बढाई। इसी क्रम में मुजफ्फरपुर से विधानसभा की तैयारी का आगाज किया जा रहा है।

इससे पहले प्रदेश अध्यक्ष ने पार्टी जिलाध्यक्ष गणेश भारती के खिलाफ कार्यकर्ताओं के उबाल को देखते हुए दो चार कार्यकर्ताओं के भाषण के बाद ही स्वयं संबोधन के लिए माइक पकड़ ली। चुनावी मौसम में धैर्य व संयम का पाठ पढ़ाते हुए कार्यकर्ताओं से चुनाव की तैयारी में लगने की अपील की। साथ ही कहा कि पार्टी की ओर से 18 से 24 तक तक चलने वाले  विशेष कार्यक्रमों में तन-मन से जुटें। उन्होंने  युवा जदयू के साथियों से विशेष रूप से 20 जून को पटना में आयोजित युवा सम्मेलन को सफल बानाने ,18 जून को  किसान सम्मेलन में भागीदारी और 22 जून को प्रदेश , जिला एवं प्रखंड मुख्यालय में धरना देने और 24 जून से शुरू हो रहे पर्चा पर चर्चा को लेकर लगने वाले चौपाल को सफल बनाने की अपील की। बैठक की अध्यक्षता जिलाध्यक्ष गणेश भारती और संचालन शब्बीर अहमद ने किया। इस मौके पर मीनापुर के जदयू नेता सुबोध कुशवाहा के निधन पर एक मिनट का मौन भी रखा गया।
 
बैठक में रहे शामिल :
लघु सिंचाई मंत्री मनोज कुशवाहा, विधान पार्षद दिनेश प्रसाद सिंह, पूर्व सांसद डॉ.अर्जुन राय ,पूर्व मंत्री डॉ. शीतल राम, पूर्व विधायक विजेंद्र चौधरी ,वरीय नेता हरिनारायण सिंह, नर्मदेश्वर सिंह, डॉ.सतीश पटेल, विजय सहनी , नंद कुमार सिंह, जिला प्रभारी संजय मालाकार, मो. जमाल, अशोक कुमार सिंह, निरंजन राय, हरिओम कुशवाहा, महेश लाल,अरुण कुशवाहा,अखिलेश सिंह,अतिपिछड़ा प्रकोष्ठ अध्यक्ष रामेशवर सहनी,  जदयू श्रमिक प्रकोष्ठ के प्रदेश महासचिव विजय सिंह पटेल, जदयू व्यावसायिक प्रकोष्ठ के प्रदेश महासचिव देवानंद, पार्टी नेतृ जानकी श्रीवास्तव ,पिंकी शाही, मेंहदी हसन, विभात कुमार सिंह, नरेद्र पटेल, सुबोध कुमार सिंह, इसराइल मंसूरी, अशोक चौधरी, किशन चौधरी , निसारुद्दीन छोटे, रमेश विपल्वी गणेश पटेल,चंदेश्वर पासवान, तेजनारायण सहनी ,पंकज किशोर पप्पू, रमेश पटेल,कृष्णदेव मेहता,  पुरुषोत्तम सहनी, युवा जदयू जिलाध्यक्ष पप्पू कुशवाहा, दलित प्रकोष्ठ के जिलाध्यक्ष विश्म्भर पासवान, महादलित प्रकोष्ठ अध्यक्ष सुधा चौधरी ,जदयू अल्पसंख्यक प्रकोष्ठ के अध्यक्ष परवेज आलम, इरफान दिलकश, किशोर सिंह, रवि चौधरी।

जिलाध्यक्ष पर भड़के पार्टी के नेता :
बैठक में प्रदेश अध्यक्ष के पहुंचने के बाद सिर्फ चुनिंदा नेताओं को ही बोलने का मौका दिये जाने से खफा कार्यकर्ता जिलाध्यक्ष गणेश भारती के खिलाफ जमकर भड़के। स्थिति तब और बिगड़ गई जब श्री भारती ने बागी विधायक राजू कुमार सिंह के करीबी समझे जाने वाले नेता खाद्य सुरक्षा आयोग के सदस्य रामनरेश मालाकार को संबोधन के लिए बुलाया। कार्यकर्ता हंगामा करने लगे। एक समय ऐसा भी आया कि गुस्साये नेता महेश लाल ने माइक अपने कब्जे में ले लिया। साथ ही पूछा, सब नेता बोलेंगे तो कार्यकर्ताओं की बात कौन सुनेगा ? बाद में प्रदेश अध्यक्ष के मान-मनौव्वल पर महेश लाल और गुस्साये कार्यकर्ता माने।
 
जेल में पूर्व सांसद नवलकिशोर राय से भी मिले :
जदयू के प्रदेश अध्यक्ष वशिष्ठ नारायण सिंह केंद्रीय कारागार में जदयू के पूर्व सांसद नवलकिशोर राय से मिलकर कुशल क्षेम जाना। इस मौके पर उनके साथ लघु सिंचाई मंत्री मनोज कुशवाहा, विधन पार्षद दिनेश प्रसाद सिंह, पूर्व विधायक विजेंद्र चौधरी , जिलाध्यक्ष गणेश भारती एवं महानगर युवा जदयू अध्यक्ष अनुपम कुमार भी साथ में थे।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:विलय नहीं गठबंधन होगा वो भी तब जब नीतीश होंगे सीएम: जेडीयू