DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

मोदी का असली चेहरा सामने आना जरूरी: आजाद

मोदी का असली चेहरा सामने आना जरूरी: आजाद

कांग्रेस के वरिष्ठ नेता गुलाम नबी आजाद ने कहा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का असली चेहरा सामने आना जरूरी है।  इनकी कथनी व करनी में कोई तालमेल नहीं है। श्री आजाद रविवार को प्रदेश कांग्रेस मुख्यालय सदाकत आश्रम में मीडिया से बातचीत कर रहे थे।

उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी कहते हैं कि भ्रष्टाचार नहीं है। लेकिन उनके मंत्रिमंडल में 30 प्रतिशत सदस्यों पर मर्डर व बैंक के बड़े डिफॉल्टर होने का आरोप है। ये पारदर्शिता की बातें करते हैं, लेकिन डीआरडीओ में एक साल से प्रमुख नहीं है। मेक इन इंडिया की बातें करते हैं, लेकिन काउंसिल ऑफ इंडस्ट्रीज रिसर्च में एक साल से चेयरमैन नहीं है। आईसीएमआर (इंडियन काउसिंल ऑफ मेडिसिन रिसर्च) में हेड का पद खाली है।

सेंट्रल ड्रग इंस्टीट्यूट में हेड का पद खाली है। 12 विश्वविद्यालयों में कुलपति नहीं हैं। सूचना आयोग के मुख्य आयुक्त व तीन सदस्यों के पद खाली हैं। वहां 39 हजार आवेदन पड़े हैं। जब सूचना के अधिकार का इस्तेमाल ही बंद करा दिया जाएगा तो सूचनाएं कैसे मिलेंगी और घोटाले कैसे सामने आएंगे।

प्रधानमंत्री व उनके सहयोगियों की भाषा से बढ़ रहा तनाव
श्री आजाद  ने कहा कि प्रधानमंत्री एक ओर कहते हैं कि सबका साथ सबका विकास। लेकिन उनके और सहयोगियों की भाषा ऐसी है जिससे तनाव बढ़ रहा है। ऐसा पहले कभी नहीं हुआ था। बड़े मियां तो बड़े मियां छोटे मियां सुभान अल्लाह। इनके सहयोगी तो देश में तनाव बढ़ा रहे हैं, लेकिन प्रधानमंत्री जब विदेश दौरे पर जाते है तो वहां उनकी भाषा से देश के लोग शर्मिंदा हो रहे है। जर्मनी में उन्होंने कहा कि इससे पहले देश की सरकारें भीख मांगने आती थीं। कनाडा में कहा कि पहले स्कैम इंडिया था अब स्किल इंडिया है।

चीन व कोरिया में तो उन्होंने लक्ष्मण रेखा ही लांघ दी। चीन में कहा कि हमारी हुकूमत के पहले लोग भारत में पैदा होना भी दुर्भाग्यपूर्ण समझते थे। कोरिया में कहा कि हिंदुस्तानी पहले शर्म महसूस करते थे। ये कैसी भाषा प्रधानमंत्री बोलते हैं। जबकि वह पूरे देश के प्रधानमंत्री हैं। भाजपा, कांग्रेस, वामदल सभी जाति-धर्म के लोगों के प्रधानमंत्री हैं।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:मोदी का असली चेहरा सामने आना जरूरी: आजाद