DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

जंगली हाथी ने छह को कुचला, चार की मौत

शुक्रवार को कहलगांव व एकचारी में उत्पात मचाने के बाद शनिवार को जंगली हाथी ने भागलपुर के सबौर और जीरोमाइल इलाके में उत्पात मचाया। बगीचे और बहियार में घूमने गए छह लोगों को हाथी ने कुचल दिया, जिनमें से चार की मौत हो गई। मरनेवालों में एक बच्चा व दो महिलाएं शामिल हैं। घायलों की स्थिति भी गंभीर है। मायागंज अस्पताल में सभी को भर्ती कराया गया है। सुबह पांच बजे हाथी सबौर ग्रिड के रास्ते बगीचे से होते हुए झुरखुरिया बगीचे में घुसा था। लोगों को पटकते हुए हाथी फतेहपुर, भिट्ठी, धनकर होते हुए कुरपट बहियार की ओर निकल गया। जंगली हाथी ने बगीचे में बने मचानों और फूस के घरों को भी नुकसान पहुंचाया है। एक स्कूल के गार्डन को भी कुचल दिया।

हाथी के घुसने की सूचना मिलते ही पुलिस और वन विभाग के अधिकारी मौके पर पहुंच गए। हालांकि संसाधनों के अभाव में वे हाथी को तांडव मचाते हुए देखने के अलावा कुछ नहीं कर सके। बांस-बल्ले के सहारे ग्रामीणों और वन विभाग की टीम ने जमसी के पीछे से नदी के रास्ते हाथी को बहियार की ओर भेज दिया। देर शाम जंगली हाथी के सन्हौला के रास्ते झारखंड के महगामा के दिग्घी की ओर जाने की सूचना मिल रही थी। वन विभाग की टीम लगातार हाथी की गतिविधियों पर नजर रख रही थी।

हाथी के तांडव से जीरोमाइल, सबौर के झुरखुरिया, फतेहपुर, राजपुर, भिट्ठी इत्यादि गांवों में लोग दहशत में रहे। देर शाम तक इलाके में लोग अकेले बाहर निकलने से बचते रहे। ग्रामीणों ने बताया कि सुबह पांच बजे झुरखुरिया बगीचे में घुसे हाथी ने मचान पर सो रहे प्रसादी तांती (72) को सोए अवस्था में ही चपेट में ले लिया। उन्हें कई फूट दूर तक घसीटते हुए पटक-पटककर उनकी जान ले ली। इससे करीब दो सौ मीटर की दूरी पर फतेहपुर गांव की सृष्टा देवी (75) टहल रही थी। हाथी ने उन्हें भी पटककर जान ले ली। दोनों की मौत मौके पर ही हो गई। जबकि सबौर के राजपुर के मो. एहसान (15) और बंशीटीकर के माखो देवी (75) ने अस्पताल पहुंचने के बाद दम तोड़ दिया।
हाथी के घुसने की सूचना पर ही जीरोमाइल, सबौर व आसपास के इलाकों की पुलिस मौके पर पहुंची थी। जीरोमाइल थाना प्रभारी प्रवीण कुमार झा ने बताया कि फतेहपुर और झुरखुरिया में दो लोगों की मौत हुई है। पुलिस ने शवों का पोस्टमार्टम करा दिया है। मौत के बाद सबौर पुलिस ने मायागंज अस्पताल में पहुंचकर परिजनों से मामले की जानकारी ली।

साहेबगंज बटेश्वर स्थान से आया था हाथी
गर्मी और भोजन के कारण हाथी अपने झुंड से बिछड़ गया है। ऐसा अंदेशा वन विभाग के अधिकारी लगा रहे हैं। जिला वन पदाधिकारी संजय कुमार सिन्हा ने बताया कि साहेबगंज के बटेश्वर स्थान हाथियों के रहने के लिए अनुकूल जगह है। वहां बांस पान और पानी आसानी से उपलब्ध होते हैं। यहीं से हाथी भटककर शहर की ओर आ जाता है। यह हाथी भी वहीं से आया है। हाथी के पीछे दो फॉरेस्टर, दो रेंज ऑफिसर और दस गार्ड लगे हुए हैं। सभी हाथी की गतिविधियों पर नजर रख रहे हैं। 

हाथी को गोली मारने का आदेश

जंगली हाथी के उत्पात को रोकने में नाकाम वन विभाग ने हाथी को गोली मारने के आदेश जारी किए हैं। मुख्य वन संरक्षक ने जंगली हाथी को गोली मारने का आदेश दिया है। इसके लिए दिल्ली से शूटर और जरूरी हथियार मंगवाए गए हैं। शनिवार शाम तक ये लोग भागलपुर पहुंच चुके थे।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:जंगली हाथी ने छह को कुचला, चार की मौत