DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

सिर्फ दो मिनट के मैगी पर प्रतिबंध का संकट, बिहार ने जांच के लिए भेजे नमूने

सिर्फ दो मिनट के मैगी पर प्रतिबंध का संकट, बिहार ने जांच के लिए भेजे नमूने

बिहार में मैगी के 16 नमूने इकट्ठे किए गए हैं और उन्हें जांच के लिए कोलकाता प्रयोगशाला भेज दिया गया है। राज्य के स्वास्थ्य निदेशालय के एक अधिकारी ने बुधवार को यह जानकारी दी। औषधि नियंत्रक के कार्यालय के एक अधिकारी ने कहा कि हमने पटना सहित पूरे राज्य से मैगी के 16 नमूने इकट्ठे किए हैं और उन्हें कोलकाता भेज दिया है, क्योंकि बिहार में परीक्षण की सुविधा उपलब्ध नहीं है।

उन्होंने कहा कि इन नमूनों की जांच के परिणाम गुरुवार तक आने की उम्मीद है। अधिकारियों ने कहा कि नमूनों के परीक्षण का परिणाम आने के बाद ही बिहार सरकार इस बाबत फैसला लेगी कि अन्य राज्यों की तरह ही बिहार में भी मैगी पर प्रतिबंध लगे अथवा इस मामले में अन्य उचित कदम उठाए जाएं।

मैगी के खिलाफ कुछ दिनों पहले मीडिया में आई खबरों में हानिकारक पदार्थ की मौजूदगी की बात कही गई थी, जिसके वाद पूरे देश में मैगी को लेकर विवाद शुरू हो गया था। भारतीय खाद्य सुरक्षा एवं मानक प्राधिकरण (एफएसएसएआई) ने भी विभिन्न राज्यों से इकट्ठे किए गए मैगी के नमूनों की जांच की है। एफएसएसएआई ने यह जांच उत्तर प्रदेश खाद्य सुरक्षा एवं औषधि प्रशासन (एफएसडीए) विभाग के परीक्षण के बाद की है।

एफएसडीए द्वारा कराए गए परीक्षण में खुलासा हुआ था कि मैगी में तय सीमा से अधिक मात्रा में मोनोसोडियन ग्लूटमेट और लेड (शीशा) पाया गया है। बिहार के मुजफ्फरपुर जिले की एक अदालत ने मंगलवार को प्रशासन को मैगी बनाने वाली कंपनी नेस्ले के अधिकारियों और उसका प्रचार करने वाले बॉलीवुड अभिनेता अमिताभ बच्चन, अभिनेत्री माधुरी दीक्षित और प्रीति जिंटा के खिलाफ प्राथमिकी दर्ज करने का आदेश दिया था।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:सिर्फ दो मिनट के मैगी पर प्रतिबंध का संकट, बिहार ने जांच के लिए भेजे नमूने