DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

21 महीना बाद पाकिस्तान के जेल से रिहा हुआ मुंदर मांझी

अनजाने में पाकिस्तान बॉर्डर क्रॉस करने के आरोप में 21 महीनों से पाकिस्तान के कोक लखपत, लाहौर जेल में बंद टिकारी का मुंदर मांझी को रिहा कर दिया गया। भारत सरकार की पहल पर मुंदर को रिहा कर दिया गया। पाकिस्तान सरकार ने अमृतसर के बाघा बॉर्डर पर उसे मुक्त किया। इसके बाद अमृतसर जिला प्रशासन ने मुंदर को अमृतसर रेडक्रॉस को सौंप दिया। मुंदर टिकारी थाना के नोनी गांव के वंशी मांझी का बेटा है।

मुंदर ने ‘हिन्दुस्तान’ से खास बातचीत में बताया कि वह जून 2013 में टिकारी से अमृतसर गया था। अमृतसर स्टेशन से किसी चरणजीत सिंह घर में काम देने के नाम पर उसे किसी गांव में ले जाया गया। खाना-पीना के साथ तीन हजार रुपये मासिक मजदूरी तय हुई। डेढ़ माह काम करने के बाद उसे मजदूरी नहीं दी गई। इस बीच मालिक से झगड़ा हो गया तो वह काम छोड़कर वापस घर आने लगा। सीमा की जानकारी नहीं होने के कारण अनजाने में वह पाकिस्तान बॉर्डर की सीमा में सौ फीट आगे चला गया।

पाकिस्तानी सेना ने मुंदर को अपने कब्जे में ले लिया। बॉर्डर क्रॉस करने के जुर्म में अगस्त 2013 से 18 मई 2015 तक उसे पाकिस्तान के लाहौर जेल में रखा गया। भारत सरकार की पहल के बाद मुंदर मांझी को 19 मई 2015 को पाकिस्तान सरकार ने छोड़ दिया। 19 मई से मुंदर अमृतसर रेडक्रास में है।

नहीं हुई कोई परेशानी
पाकिस्तान के जेल में 21 माह बिताने के बाद रिहा हुए मुंदर ने बताया कि जेल में कोई परेशानी नहीं हुई। उसे समय से खाना-पीना दिया जाता था। किसी प्रकार की पीड़ा नहीं पहुंचायी गई। उसने कहा कि आम कैदियों की तरह उसे भी रखा गया।

टिकारी पुलिस पहुंची पंजाब
गया के डीएम व एसएसपी के आदेश पर टिकारी थाने के एक एसआई पवन कुमार को अमृतसर भेजा गया है। एसआई पवन ने बताया कि वह सोमवार को पंजाब के जलंधर पहुंच गए हैं। मंगलवार को अमृतसर जाकर सारी प्रक्रिया पूरी करते हुए मुंदर को लेकर टिकारी आयेंगे।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:21 महीना बाद पाकिस्तान के जेल से रिहा हुआ मुंदर मांझी