DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

छात्राओं ने प्राचार्य को बनाया बंधक

एमआईटी में नामांकन फीस घटाने की मांग को लेकर छात्राओं ने मंगलवार को जमकर हंगामा किया। फीस कम करने समेत अन्य सुविधाओं के लिए मंगलवार को आयोजित बैठक नहीं होने के कारण छात्राओं ने कॉलेज का सारा कामकाज ठप करा दिया। करीब डेढ़ घटे तक प्राचार्य डॉं. एके नाथानी को बंधक बनाये रखा। तीखी बहस की। डीएसपी के हस्तक्षेप के बाद छात्राओं ने प्राचार्य को मुक्त किया। उनकी विभिन्न मांगों पर विचार के लिए बुधवार सुबह नौ बजे से बैठक बुलाई गई है।चार दिन पहले नामांकन फीस घटाने के लिए फोर्थ ईयर की छात्राओं ने एमआईटी में हंगामा किया था। इसके बाद पांच सदस्यीय जांच कमेटी बनाई गई। इसमें पूर्व प्राचार्य डॉं. ध्रुव प्रसाद, डॉं. सुरेंद्र कुमार, वार्डेन सुरेश कुमार व प्रो. आरती कुमारी व संजय कुमार चौधरी थे। छात्राओं की मांगों पर विचार के लिए मंगलवार को कमेटी की बैठक होनी थी, लेकिन अधिकांश सदस्यों के उपस्थित नहीं होने के कारण बैठक नहीं हो सकी। इसके बाद छात्राओं का गुस्सा भड़क गया।

छात्राओं ने प्राचार्य को उनके चैंबर में घेर लिया। काफी देर तक दोनों के बीच बहस होती रही। किसी तरह से प्राचार्य चैंबर से निकल अपनी गाड़ी में बैठे तभी छात्राओं ने चारों ओर से गाड़ी को घेर लिया। एक घंटे तक प्राचार्य को बंधक बनाये रखा। छात्राओं का कहना था कि दूसरे इंजीनियरिंग कॉलेज में नामांकन फीस काफी कम है तो यहां इतना फीस क्यों ली जा रही है। इसके बाद ब्रह्मपुरा पुलिस पहुंचीं, लेकिन छात्राएं नहीं मानीं। तब जाकर नगर डीएसपी अनिल कुमार सिंह ने फोन कर छात्राओं को समझाया और कहा कि उनकी समस्या के साथ वे भी हैं।
बुधवार को बैठक करने के आश्वासन के बाद छात्राओं ने प्राचार्य को जाने दिया। इधर, प्राचार्य ने कहा कि कमेटी की बैठक नहीं होने के कारण छात्राएं आक्रोश में थीं। बुधवार की सुबह बैठक में इस पर फैसला लिया जाएगा।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:Students created the mortgage principal