DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

लो वोल्टेज से उपभोक्ता परेशान

लो वोल्टेज से उपभोक्ता परेशान

वर्ष 2015 तक सभी ग्रामीण क्षेत्रों में बिजली पहुंचाने का सरकारी संकल्प अब तक अधूरा है। गांवों में बिजली तो पहुंच गयी लेकिन ग्रामीण उपभोक्ताओं के लिए यह बिजली जी का जंजाल बन कर रह गयी है। जिन गांवों का विद्युतीकरण अब तक नहीं हो सका है वैसे गांव विद्युतीकरण के लिए तरस रहे हैं परन्तु उन गांवों की हालत ज्यादा बदतर है जहां विद्युतीकरण के बाद उपभोक्ता लो वोल्टेज एवं लोड शेडिंग की समस्या से परेशान हैं।

केसरिया के ग्रामीण क्षेत्रों में इस भीषण गर्मी में भी मात्र एक से दो घंटे बिजली मिल पा रही है। वहीं शहरी इलाके में तीन से पांच घंटे तक ही बिजली की आपूर्ति बमुश्किल संभव हो पा रही है। वहीं लो वोल्टेज की समस्या से चाहे ग्रामीण क्षेत्र हो या शहरी सभी परेशान हैं। लो वोल्टेज की समस्या के कारण मोटर, फ्रिज, एसी, कूलर समेत अन्य विद्युत चालित उपकरण शोभा की वस्तु बन कर रह गये हैं। लो वोल्टेज की समस्या को लेकर ग्रामीणों द्वारा कई बार विद्युत सब स्टेशन पर हो हंगामा किया गया। परन्तु विभाग के अधिकारी कुम्भकर्णी निद्रा में सोये हुए हैं। केसरिया पुरानी बाजार के राकेश पाठक, रविरंजन कुमार, रामायण पासवान ने बताया कि यहां तो कई सालो से लो वोल्टेज की समस्या बनी हुई है इसको लेकर कई बार विभाग को लिखा गया लेकिन आज तक कोई निदान नहीं निकला। इधर विभागीय जेई का मोबाइल स्वीच ऑफ है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:Low voltage Consumer upset