DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

बिहार चुनाव: जदयू-कांग्रेस एक, राजद पर दबाव

बिहार चुनाव: जदयू-कांग्रेस एक, राजद पर दबाव

राज्य में भाजपा विरोधी गोलबंदी की तस्वीर तेजी से बदल रही है। जनता परिवार का विलय टलने के बाद अब जदयू- राजद गठबंधन पर भी ग्रहण लगता नजर आ रहा है। इस बीच जदयू और कांग्रेस के बीच नजदीकी बढ़ी है। मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने जनता परिवार के विलय पर पूछे गए सवाल को टाल दिया, लेकिन दो टूक कहा कि कांग्रेस से तालमेल पर कोई भ्रम नहीं है। जबकि कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी ने नीतीश कुमार के नेतृत्व में चुनाव लड़ने की आवश्यकता जताई। उन्होंने इसमें राजद को भी साथ आने का सुझाव दिया। इससे राजद पर दबाव बढ़ गया है। इधर, लालू प्रसाद के सुर बदले। उन्होंने कहा कि अगर साथ चलना है, तो भरोसा करना होगा। लगे हाथ यह भी कहा कि पटे तो भी ठीक और नहीं पटे तो भी ठीक।

कांग्रेस से तालमेल पर भ्रम नहीं
मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने सोमवार को कहा कि विधानसभा चुनाव में जदयू का कांग्रेस के साथ तालमेल को लेकर किसी तरह का कोई भ्रम नहीं है। भाजपा से अलग होने के बाद से ही जदयू का कांग्रेस के साथ अच्छा समन्वय रहा है। कांग्रेस सरकार का समर्थन भी कर रही है। लोकसभा चुनाव के बाद हुए विधानसभा उप चुनाव में कांग्रेस पार्टी जदयू के साथ चुनाव मैदान में उतरी है। आगे भी कांग्रेस जदयू के साथ मिलकर चुनाव लड़ेगी।

जनता दरबार के बाद सीएम पत्रकारों से बातचीत कर रहे थे। उनसे जब जनता परिवार के विलय के संबंध में पूछा गया तो उन्होंने कहा कि उपयुक्त समय पर सारी बातें साफ हो जाएंगी। मैंने तो शुरू से ही इसके लिए प्रयास किया है। बीच में इस मुद्दे पर कुछ बोलना नहीं चाहता हूं। अभी वक्त है। वैसे भी यह कोई जरूरी नहीं कि हर आदमी इस मुद्दे पर बोले। अभी ऐसी कोई खास बात नहीं हुई है कि आखिरी तौर पर बोला जाए। कुछ बोलने के लिए मैं नही बोलता।

जनता परिवार के विलय को लेकर राजद नेता रघुवंश प्रसाद सिंह के लगातार आ रहे बयानों पर जब मुख्यमंत्री से उनकी प्रतिक्रिया पूछी गई तो उन्होंने कहा कि वाणी की स्वतंत्रता है, जिनको जितना बोलना है, बोल रहे हैं।

जदयू से गठबंधन को हरी झंडी
कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी भी बिहार चुनाव में नीतीश कुमार के साथ गठबंधन कर चुनाव लड़ने के पक्ष में हैं। सोमवार को प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष अशोक चौधरी ने 10 जनपथ में उनसे मुलाकात कर बिहार के राजनीतिक हालात से अवगत कराया। इसमें सोनिया ने जदयू के साथ गठबंधन पर अपनी सहमति दी। कांग्रेस चाहती है कि नीतीश कुमार के साथ गठबंधन में लालू प्रसाद भी साथ रहें।

दिन में 11 बजे अशोक चौधरी की मुलाकात सोनिया गांधी से हुई। बीस मिनट की बातचीत में सोनिया ने बिहार के राजनीतिक हालात और चुनाव को लेकर प्रदेश कांग्रेस कमेटी की तैयारी की जानकारी ली। राजद, जदयू के बीच चल रहे गठबंधन की कोशिशों के बारे में भी जानकारी ली। श्री चौधरी ने विधान परिषद की सीटों पर जदयू और राजद के साथ चल रहे गठबंधन की बातचीत से भी अवगत कराया। सूत्रों ने बताया कि पूरी बात सुनने के बाद सोनिया ने नीतीश के साथ गठबंधन की आवश्यकता बताई। उन्होंने चुनाव में भाजपा को रोकने पर जोर दिया। जदयू के साथ गठबंधन में राजद के भी साथ रहने की बात कही। कहा, कांग्रेस को बिहार में बेहतर प्रदर्शन करना है, साथ ही सहयोगी दलों के प्रत्याशियों की जीत भी सुनिश्चित करनी है।

पटे तो ठीक, नहीं तो भी ठीक
राजद के राष्ट्रीय अध्यक्ष लालू प्रसाद ने कहा कि गठबंधन को लेकर कोई भी बयान मीडिया के माध्यम से देने के पहले पार्टी नेता मुझसे बात करें। मिलकर चुनाव लड़ना है तो इसमें विश्वास करना होगा। विश्वास का संकट होने से नुकसान होगा।

सोमवार को अपने आवास पर मीडिया से बातचीत में श्री प्रसाद ने कहा कि हम और नीतीश कुमार साथ बैठेंगे तो सब मामला तय हो जाएगा। शरद जी आए थे। उनसे गठबंधन पर बातें हुई हैं। गठबंधन पर बातचीत का क्रम जारी है। नीतीश कुमार को भी बुलाए हैं। पटे तो ठीक नहीं तो भी ठीक है। हम तो बोले है कि देर हो रही है, विलय में तो दिल्ली चाहे पटना यही दोनों दलों का विलय कर लेते हैं। अपने दल के नेताओं से कहता हूं कि जो परामर्श हो मुङो बताएं, ताकि उस पर अन्य दल के साथ मैं बात कर सकूं।

जदयू अकेले कैसे कर लेगा निर्णय: रघुवंश
पटना।
राजद के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष डॉं. रघुवंश प्रसाद सिंह ने कहा कि गठबंधन पर जदयू अकेले कैसे निर्णय करेगा। अगर उसे अकेले ही निर्णय करना है तो वह सत्ता में है ही, जाए और निर्णय करें।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:JDU-Congress, RJD pressure