DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

फुटपाथी कारोबारियों के लिए अब लोन मिलना आसान

फुटपाथी कारोबारियों के लिए अब लोन मिलना आसान

फुटपाथी कारोबारियों के लिए देश में खुला पहला मुद्रा बैंक (माइक्रो यूनिट्स डेवलपमेंट एंड रीफीनांस एजेंसी लिमिटेड) उत्तर बिहार ग्रामीण बैंक के माइक्रो जेनरल क्रेडिट कार्ड (एमजीसीसी) पर अपनी ब्रांडिंग करते हुए काम करेगा। बैंक के सीइओ ने ग्रामीण बैंक प्रबंधन को इसका प्रस्ताव दिया है। उत्तर बिहार के राष्ट्रीयकृत बैंकों को यह मौका नहीं मिला है।

दरअसल ग्रामीण बैंक की उत्तर बिहार में 1020 शाखाएं हैं। बैंक को यह ऑफर वित्तीय समावेशन के तहत प्रधानमंत्री जनधन योजना में बेहतर काम करने पर मिला है। मई में पटना में आयोजित एसएलबीसी की बैठक में इसकी घोषणा हुई है। मुद्रा बैंक ग्रामीण बैंक के एमजीसीसी में अपना लोगो देगा। बैंक से इस कार्ड को पाने वाले स्वत: लोन के हकदार हो जाएंगे। 

उत्तर बिहार ग्रामीण बैंक के चेयरमैन बीएस हरिलाल ने बताया कि चालू वित्तीय वर्ष में बैंक के बिजनेस कॉरस्पोंडेंट के जरिए दो लाख कम पूंजीवाले फुटपाथी व ग्रामीणों को लोन दिया जाएगा। मुद्रा बैंक के प्रस्ताव पर कार्य हो रहा है। एमजेसीसी मॉडय़ूल को देख मुद्रा बैंक का ऑफर है। इस कार्ड के जरिए बैंक उत्तर बिहार के दो हजार गरीबों को एक करोड़ रुपये का लोन दिया है। अब मुद्रा बैंक के सहयोग से फुटपाथी कारोबारियों को दस लाख रुपये तक लोन दिया जाएगा।

क्या है मुद्रा बैंक: फुटपाथी कारोबारियों के लिए प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने आठ अप्रैल को मुद्रा बैंक की स्थापना की है। इसका मुख्य उद्देश्य छोटे कारोबारियों का आर्थिक विकास करना है। मोची, दर्जी, किराना दुकानदार, जूस बेचने वाले, फुटपाथ पर अन्य समान बेचने वाले इसके दायरे में आएंगे। स्वयं सहायता समूह को बैंक से मदद मिलेगी। संबंधित बैंक जितने रुपये का लोन देगा उसका 60 फीसदी गारंटी मुद्रा बैंक लेगा।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:For businesses get loans now easy pedestrian