DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

बाढ़ आई, तो डूबेंगे कई गांव

बाढ़ आई, तो डूबेंगे कई गांव

जिले में सभावित बाढ़ को लेकर जिला प्रशासनिक तैयारी काफी धीमी गति से चल रही है। ऐसे में बाढ़ अगर आयी तो जिले के कई गांव डूबेंगे।  कायदे से जिले के सभी तटबंधों की मरम्मत 31 मई तक करने का निर्देश था। जिसे पूरा नहीं होते देख अब 15 जून तक हर हाल में पूरा करने का निर्देश दिया गया है। बाढ़ प्रमंडल के कार्यपालक अभियंता एवं संबंधित क्षेत्र के अनुमंडल पदाधिकारी तटबंधों का निरीक्षण कर आपदा प्रबंधन विभाग को अपना रिपोर्ट सौंपेंगे। झंझारपुर बाढ़ प्रमंडल वन में करीब 191.635 किमी. तटबंध है।

बाढ़ प्रमंडल टू में करीब 63.62 किमी. तटबंध है। जो कई जगहों पर जर्जर है। जिले में पश्चिमी कोसी नदी से संबंधित कुल करीब 69.864 किमी. तटबंध है। पश्चिमी कोसी नदी के तटबंध कई जगहों पर क्षतिग्रस्त है। जिसकी अभी तक मरम्मत नहीं की गई है। पश्चिमी कोसी नहर की शाखा उग्रनाथ शाखा नहर का तटबंध राजनगर से खजौली सुक्की साइफन तक कई जगहों पर जर्जर है। सर्वाधिक खराब स्थिति सहोरवा एवं गोसाईटोल गांव के समीप तटबंध की है। जिसकी अभी तक मरम्मत नहीं की गयी है। अगर बाढ़ का पानी आया तो दर्जनों गांव डूब सकते हैं। यही हाल  विदेश्वर शाखा नहर का भी है। यही हाल महराजी बांध का है। वहां भी तटबंध कई जगहों पर क्षतिग्रस्त है। पिछले साल बिस्फी में महराजी बांध टूटने से कई गांवों में बाढ़ का पानी घुसा था। जिसे काफी मशक्कत के बाद बंद किया गया।

शुरू हुआ बाढ़ सुरक्षा सप्ताह
जिले में एक से सात जुलाई तक चलेगा बाढ़ सुरक्षा सप्ताह। लोगों को बाढ़ आने पर बचने की जानकारी दी जाएगी। बैनर एवं पोस्टर के माध्यम से लोगों को बाढ़ से सुरक्षा के उपाय बताये जायेंगे।

बाढ़ आने पर ऊंची जगहों पर जाने तथा नाव की व्यवस्था पहले से करनी है। पशुओं को ऊंचे स्थान पर ले जाने के लिए पहले से स्थल चयन कर लेना है। जिला आपदा प्रबंधन विभाग जिले में बाढ़ सुरक्षा सप्ताह को लेकर जगह-जगह कार्यक्रम का आयोजन करेगा।

जिले में हैं 331 नाव
जिले में कुल 331 नाव हैं। जिनमें सरकारी नाव 228 एवं निजी नाव 103 हैं। जिले में सरकारी एवं गैर सरकारी मोटरबोट 21 हैं।
सीओ की डिमांड पर बाढ़ प्रभावित क्षेत्रों में नाव भेजी जाएगी। सरकारी एवं निजी नाव के चालकों का मोबइल नंबर सूची बनाकर रखा जाएगा।

तटबंधों पर तैनात होंगे 240 होमगार्ड के जवान
संभावित बाढ़ को लेकर तटबंधों की  सुरक्षा में 240 होमगार्ड के जवान लगाये जायेंगे। इसको लेकर विभाग ने पत्र निर्गत कर दिया है। झंझारपुर बाढ़ प्रमंडल वन एवं टू सहित पश्चिमी कोसी नहर के सभी तटबंधों पर होमगार्ड के जवानों की तैनाती की जाएगी।

आठ जून को होगा अनाज व पालिथीन का टेंडर
जिले में संभावित बाढ़ को लेकर आपदा प्रबंधन विभाग ने प्रशासनिक तैयारी शुरू कर दी है। आपदा प्रबंधन अधिकारी दिनेश कुमार मंडल ने बताया कि 8 जून को खाद्यान्न व पालिथीन का टेंडर होगा।

अधिकारी बोले-
आपदा प्रबंधन विभाग के वरीय उप समाहर्ता दिनेश कुमार मंडल ने बताया कि जिले में संभावित बाढ़ को लेकर विभाग पूरी तरह तैयार है। सभी आवश्यक सामानों का टेंडर के बाद भंडारण किया जाएगा। 15 जून से पूर्व सभी तटबंधों की रिपोर्ट सभी अभियंता एवं एसडीओ से मांगी गई है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:Floods, then submerged several villages