DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

एक प्याली चाय के लिए ससुर ने की बहू की हत्या

एक प्याली चाय के लिए ससुर ने की बहू की हत्या

महज एक प्याली चाय के लिए बहू की हत्या में एक ससुर को अदालत ने उम्रकैद की सजा सुनाई है। साथ ही अलग से पचास हजार रुपये जुर्माना भी लगाया है। यह फैसला सुनाते हुए तृतीय अपर सत्र न्यायाधीश मो. एजाजुद्दीन की अदालत ने निर्देश जारी करते हुए कहा कि जुर्माने की रकम में से साठ फीसदी मृतका के पति और माता-पिता को दी जाय। अदालत में आरोपी के पुत्र और नातिन ने आरोपी के खिलाफ गवाही देकर सच्च्चाई से सबको रूबरू कराया।

यह मामला जलालगढ़ थानाक्षेत्र के निशहरा गांव की है जिसके लिए कांड सं. 12/13 के अंतर्गत इसी गांव के गणेश शर्मा के खिलाफ प्राथमिकी दर्ज की गयी थी। यह प्राथमिकी कटिहार जिले के छींटाबाड़ी गांव निवासी जगदीश प्रसाद दास ने करवायी थी। दर्ज प्राथमिकी में यह आरोप लगाया गया कि 17 फरवरी 2013 को उन्हें सूचना मिली कि उसकी पुत्री रानी देवी की हत्या उसके ससुर ने कर दी है जिसकी शादी 18 अप्रैल 2012 को गोपाल शर्मा नामक युवक से की गयी थी। सूचक जब सूचना पाकर उसके ससुराल पहुंचे तो देखा कि उसकी पुत्री की लाश पड़ी है।
लाश का चेहरा बुरी तरह जख्मी था। घर में मौजूद आरोपी गणेश शर्मा की नातिन आठ वर्षीया कविता कुमारी ने बताया कि चाय बनाने को लेकर मृतका के साथ आरोपी का विवाद हुआ और गुस्से में उसने कुल्हाड़ी से मृतका पर प्रहार कर दिया। इस प्रहार से वह बुरी तरह जख्मी हो गयी और दम तोड़ दिया। बहू को मृत देखकर आरोपी घर से फरार हो गया। उस वक्त घर में अन्य को सदस्च नहीं थे। मृतका का पति गोपाल शर्मा सरस्वती पूजा में मूर्ति विसर्जन के लिए गांव से बाहर गया था।

अपर लोक अभियोजक मायाकांत मिश्र ने जानकारी देते हुए बताया कि इस मामले में दस लोगों की गवाही कलमबंद की गयी जिसमें चश्मदीद गवाह आरोपी की आठ वर्षीय नातिन के अलावा उसके पुत्र यानी मृतका के पति भी शामिल थे। उन्होंने बताया कि मृतका गर्भवती भी थी। अदालत ने सारे पहलूओं पर गौर करने के बाद पैंसठ वर्षीय आरोपी ससुर को सश्रम आजीवन कारावास की सजा सुनाई है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:Father-in-law of the murdered for a cup of tea