DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

बिहार: अस्पताल के सामने सजा दी महिला की चिता

बिहार: अस्पताल के सामने सजा दी महिला की चिता

पत्रकार नगर थाने के विद्यापुरी स्थित स्वास्तिक अस्पताल में रविवार की देर रात प्रसूति महिला गुडिया उर्फ पिंकी (28 वर्ष) की मौत के बाद सोमवार की दोपहर परिजनों ने जमकर हंगामा किया। परिजन इतने आक्रोशित थे कि वह शव भी ले जाने से इनकार कर रहे थे।

डॉंक्टरों पर लापरवाही का आरोप लगाते हुए परिजनों ने लकड़ी लाकर अस्पताल के गेट पर ही महिला की चिता सजा दी। परिजनों के हंगामे को देखते हुए अस्पतालकर्मी मौके से भाग गए। करीब चार घंटे तक अस्पताल में हंगामा चलता रहा।

बाद में सदर डीएसपी रामाकांत प्रसाद व थानाध्यक्ष आईसी विद्यासागर मौके पर पहुंचे। उत्तेजित परिजनों को समझा-बुझाकर शांत कराया। उन्हें न्याय का भरोसा दिलाया तो वे शांत हुए। इसके बाद शव को पोस्टमार्टम के लिए पीएमसीएच भेज दिया गया। पति पंकज कुमार के बयान पर महिला डॉंक्टर व अस्पताल प्रशासन के खिलाफ मामला दर्ज किया गया है। बख्तियारपुर की गुडिया की शादी पांच साल पहले बिहारशरीफ के पंकज से हुई थी। वह स्टॉक एक्सचेंज से जुड़ कर कारोबार करता है। भाई निशांत ने बताया कि गुडिया के गर्भवती होने के बाद पिछले आठ माह से उसका इलाज विद्यापुरी स्थित निजी नर्सिंग होम में चल रहा था। उसकी नियमित जांच कराई गई थी। तीन जून को प्रसव पीड़ा होने पर उसे स्वास्तिक अस्पताल में भर्ती कराया गया। छह को उसने बेटे को जन्म दिया। भाई का आरोप है कि सामान्य प्रसव के बाद गुडिया को स्टीच नहीं लगाया गया, जिससे उसकी स्थिति खराब हो गई। वहीं बच्चा ठीक है, लेकिन 6 जून की रात गुडिया की नाक से अचानक खून बहने लगा। अधिक खून निकलने पर दूसरे दिन डॉंक्टर ने खून की कमी बताया।

सोमवार को खून चढ़ाने की तैयारी चल रही थी तभी ओटी में ले जाकर उसकी बहन को स्टीच लगा दिया गया। निशांत का आरोप है कि डॉंक्टर मौत का कारण ब्रेन टय़ूमर बता रहे हैं। यदि ऐसा रहता तो आठ माह में इसकी जानकारी क्यों नहीं हुई? आरोप लगाया कि उसकी बहन की मौत अस्पताल में संक्रमण होने के कारण हुई है, इसीलिए इसकी जांच होनी चाहिए। वहीं इस संबंध में अस्पताल प्रबंधन की ओर से कोई भी कुछ बोलने को तैयार नहीं है।

पत्रकानगर थानाध्यक्ष ईश्वरचंद्र विद्यासागर ने बताया कि डॉंक्टर डॉ. शिप्रा राय व स्वास्तिक अस्पताल प्रबंधक के खिलाफ एफआईआर दर्ज कर ली गई है। शव का पोस्टमार्टम मेडिकल बोर्ड से कराया गया है। पुलिस मामले की छाबनीन कर रही है। वहीं पटना के सिविल सर्जन का कहना है कि यदि पीडित परिवार लिखित शिकायत करेगा तो स्वास्थ्य विभाग इसकी जांच कराएगा।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:Bihar: Woman punished in front of the hospital's funeral pyre