DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

लालू यादव से ग्यारह साल पहले विधायक बने रामविलास पासवान

लालू यादव से ग्यारह साल पहले विधायक बने रामविलास पासवान

राजनीति में बिहार की मजबूत दखल शुरू से रही है। यहां के अनेक नेता ऐसे रहे हैं या हैं जिनकी राष्ट्रीय राजनीति पर भी मजबूत पकड़ रही है। इनमें कइयों ने बिहार विधानसभा से अपनी संसदीय पारी शुरू की। वर्तमान राजनीतिक हस्तियों में रामविलास पासवान सबसे पहले विधानसभा पहुंचे। रामविलास पासवान 1969 में ही विधायक बने थे। हालांकि तब जीत के लिए उन्हें संघर्ष करना पड़ा था और निकटतम प्रतिद्वंदी से उन्हें महज 906 वोट ही ज्यादा मिले थे।

लालू प्रसाद को विधायक बनने का सौभाग्य 1980 में हासिल हुआ। हालांकि वह इसके तीन साल पहले जेपी लहर में ही 1977 का लोकसभा चुनाव जीते थे। पहली बार विधानसभा में सोनपुर से किस्मत आजमाने वाले लालू प्रसाद को 45 हजार से ज्यादा मत मिले और 9167 वोट से वे चुनाव जीते थे। मुख्यमंत्री नीतीश कुमार का संसदीय जीवन 1985 में शुरू हुआ जब वे पहली बार नालंदा के हरनौत से चुनाव जीतकर एमएलए बने। विधानसभा के पहले चुनाव में जीत के अंतर के लिहाज से नीतीश कुमार, रामविलास पासवान और लालू प्रसाद पर भारी रहे। उस चुनाव में नीतीश कुमार को करीब 50 हजार वोट मिले थे और उन्होंने 21 हजार 412 वोटों के बड़े अंतर से जीत हासिल की थी।  

चुनावी राजनीति के मामले में पूर्व उपमुख्यमंत्री सुशील कुमार मोदी का कैरियर इन नेताओं के कुछ वर्ष बाद शुरू हुआ। वे 1990 में पहली बार विधानसभा का चुनाव लड़े। पहली बार सुशील मोदी, पटना मध्य (वर्तमान में कुम्हरार) से चुनाव लड़े थे और 3113 मतों से विजयी हुए थे। नंदकिशोर यादव के लिए भी उनके पहले चुनाव की राह आसान नहीं थी। उन्होंने पहली बार 1995 में विधानसभा का चुनाव लड़ा। 41 हजार से ज्यादा वोट लाने वाले नंदकिशोर यादव 6430 वोटों से जीतकर विधानसभा पहुंचे थे।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:Bihar: Laloo Yadav Eleven years ago MLA Ram Vilas Paswan