DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

निर्वाचन विभाग के रडार पर 60 हजार मतदाता

निर्वाचन विभाग के रडार पर 60 हजार मतदाता

जिले के करीब 5 प्रतिशत यानि, 60 हजार मतदाता निर्वाचन विभाग के रडार पर हैं। निर्वाचन विभाग को शक है कि इन मतदाताओं का नाम एक से अधिक बूथों की सूची में दर्ज है। विभाग ने इन संदिग्ध नामों की जांच कर गलत तरीके से दर्ज नामों को हटाने का निर्देश जिले को दिया है।

निर्वाचन विभाग ने विधानसभावार ऐसे मतदाताओं की सूची तैयार की है। जिनके नाम, पिता के नाम, फोटो व अन्य विवरण दो या अधिक बूथों की सूची में मैच कर रहे हैं। निर्वाचन विभाग के नियमों के मुताबिक कोई व्यक्ति पूरे देश में केवल एक बूथ पर ही मतदाता हो सकता है। लेकिन, बड़े पैमाने पर मतदाताओं के नाम कई बूथों की मतदाता सूची में पाए जाते रहे हैं।

बिहार जैसे राज्यों में रोजगार के लिए पलायन व शहरीकरण की वजह से यह समस्या अधिक गंभीर है। हाल के वर्षों में शहरी इलाके में मकान बनाने वाले अधिकतर लोगों के नाम गांव और शहर दोनों जगह की मतदाता सूची में दर्ज हैं। इसी तरह किराए पर रहने वाले बहुत से लोगों के नाम मकान बदलने के साथ अलग-अलग मोहल्लों की मतदाता सूची में दर्ज हो गए हैं।

इसका असर स्वच्छ चुनाव प्रक्रिया पर पड़ता है। मतदाता सूची में दोहरे नामों से बोगस वोटिंग व कम वोट प्रतिशत का खतरा रहता है। फिलहाल निर्वाचन विभाग के पास मौजूद डाटा एक ही विधानसभा क्षेत्र के अंदर का है। जबकि, जिले में बहुत से ऐसे मतदाता हैं, जिनका नाम दो विधानसभा क्षेत्रों की सूची में दर्ज है। विभाग का अगला कदम एक जिले के अंदर दोहरे नामों की पहचान का होगा।

हो सकती है एक साल की कैद
निर्वाचन अधिनियम के प्रावधानों के मुताबिक एक व्यक्ति का नाम एक ही बूथ की मतदाता सूची में दर्ज हो सकता है। इसका उल्लंघन करते पाए जाने पर सजा का प्रावधान है। अगर पाया जाता है कि किसी व्यक्ति ने जानबुझकर अपना नाम दो जगह की मतदाता सूची में दर्ज कराया और इसके सहारे चुनाव में पारदर्शिता को प्रभावित करने की कोशिश की तो, उसे एक साल कैद की सजा भी हो सकती है। इसलिए बेहतर यह है कि अगर आपको पता हो कि आपका नाम दो जगह की मतदाता सूची में है, तो इसे खुद ही दुरुस्त करा लें। इसके लिए आपको फार्म 7 भरकर उस बूथ के बीएलओ को देना होगा, जहां से आप नाम हटाना चाहते हैं। आवेदन देने के बाद उसकी पावती जरुर लें। यह आवेदन आप एसडीओ कार्यालय में भी दे सकते हैं।

आप खुद भी कर सकते हैं चेक
अगर आपको संदेह है कि आपका नाम किसी दूसरे बुथ की सूची में भी है। तो आप इसे आसानी से चेक कर सकते हैं। इसके लिए आपको निर्वाचन विभाग की वेबसाइट http://electoralsearch.in/ पर लॉग इन करना होगा। इलेक्टोरल सर्च की यह वेबसाइट एक साथ पूरे देश में किसी भी बूथ की सूचना प्रस्तुत करती है। यह सर्च सेवा हिन्दी और अंग्रेजी दोनों भाषाओं में उपलब्ध है। यहां केवल अपना नाम डालकर सर्च कर सकते हैं। सर्च रिजल्ट बहुत अधिक होने पर आप अपने पिता का नाम व जन्म तिथि भी डालकर सर्च करें। इससे पता चल जाएगा कि आपका नाम पूरे देश में कहां-कहां की मतदाता सूची में दर्ज है। अगर आपको लगता है कि आपका नाम एक से अधिक जगह की मतदाता सूची में दर्ज है, तो यहीं से आप उसे हटाने के लिए आवेदन कर सकते हैं। इसके लिए सर्च रिजल्ट में संबंधित नाम के सामने विउ डिटेल्स पर क्लिक करना होगा। इसके बाद एक नई विंडो खुलेगी, जिसमें संबंधित मतदाता का पूरा ब्यौरा मौजूद रहेगा। यहां फार्म सात पर क्लिक करने के बाद एक नई विंडो फिर से खुलेगी। आनलाइन फार्म 7 को भरकर सबमिट करने के बाद निर्वाचन विभाग उसपर नियमानुसार कारवाई करेगा।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:60 thousand voters on the Election Department's radar