DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

जदयू-राजद से भाजपा को मिलेगी कड़ी टक्कर

जदयू-राजद से भाजपा को मिलेगी कड़ी टक्कर

भाजपा का ‘कांग्रेस मुक्त भारत’ का सपना हरियाणा, झारखंड, महाराष्ट्र और जम्मू-कश्मीर विधानसभा चुनाव में जीत के साथ साकार होता दिख रहा हो, लेकिन पार्टी को बिहार में गठबंधन (जदयू और राजद) से लड़ना आसान नहीं होगा। भाजपा को यहां कड़ी टक्कर मिलेगी। 2010 के विस चुनाव के नतीजों पर गौर करें तो 243 सीटों में से 87 सीटों पर जदयू-राजद आमने-सामने थे। 71 सीटों पर जदयू को जीत मिली। राजद के खाते में 16 सीटे आयीं। इन 87 सीटों पर दोनों दलों के उम्मीदवारों के लिए मतों को जोड़ दिया जाए तो अन्य दल कहीं नहीं ठहरते हैं। हालांकि, 2010 में इन 87 सीटों पर भाजपा ने कोई उम्मीदवार खड़ा नहीं किया था। जदयू को भाजपा का समर्थन प्राप्त था, लेकिन 2015 विस चुनाव में इन सीटों पर भाजपा उम्मीदवार खड़ा करती है उसे महागठबंधन के उम्मीदवार से टक्कर लेना आसान नहीं होगा, क्योंकि अन्य दलों में सपा और जनता दल (सेक्युलर) के वोट भी महागठबंधन के उम्मीदवार संग जुडेंगे। 2010 के चुनाव में कल्याणपुर विस क्षेत्र में दोनों दलों के उम्मीदवारों के वोटों को जोड़ें तो 37 प्रतिशत मतों पर दोनों दलों का कब्जा है, जबकि अन्य दलों को मात्र 20.72 प्रतिशत मत मिले हैं। अगर सपा (1496) व जनता दल (सेल्युलर)(1150) के वोटों को जोड़ दें तो महागठबंधन की दावेदारी पुख्ता नजर आती है। ‘बाबूबरही’ में कुल मतदाता 235171 हैं। यहां जदयू-राजद को 98631 मत प्राप्त हुए। दोनों दलों को 41.94 प्रतिशत मत प्राप्त हुए, जबकि प्रतिद्वंद्वी दलों को 12.38 फीसदी ही वोट मिले। छातापुर, सिंहेश्वर, मधेपुरा, बोछहा और परबत्ता विस क्षेत्रों में दोनों दलों का 50 प्रतिशत वोटों पर कब्जा है। छातापुर में दोनों दलों के उम्मीदवारों के मतों को जोड़ दें, तो दोनों को 110060 मत प्राप्त हुए, जबकि कुल मतदाताओं की संख्या 212216 है। सिंहेश्वर विस में दोनों दलों के उम्मीदवारों को कुल वोट में 212216 में 129368 वोट मिले। मधेपुरा में राजद व जदयू के उम्मीदवार को कुल मत 133018 मत (257921 में से) प्राप्त हुए। सुपौल, बिहारीगंज, साहेबगंज, बैकुंठपुर, धरौंधा, परसा, राघोपुर, समस्तीपुर, सरायगंज, साहेबपुर कमाल, गोपालपुर, जगदीशपुर, मखदमपुर, गोह, बाराचट्टी, टिकारी, बेलागंज और जमुई विधानसभा क्षेत्रों में 40 प्रतिशत से अधिक वोटों पर इन दोनों दलों का कब्जा है।

इन सीटों पर मिल सकती है टक्कर
2010 के विस के आंकड़ों पर गौर करें तो पिपरा, मधुबन, सूरसंड, बाजपट्टी, रूनीसैदपुर, बेलसंद, बिस्फी, झंझारपुर, फुलपरास, लौखाहा, कोचाधमन, महिषी, गौराबौड़ाम, अलीनगर, दरभंगा (ग्रामीण), बहादुरपुर, मीनापुर, कांटी, कुचायकोट, हथुआ, बड़हिया, महाराजगंज, एकमा, मंजही, महुआ, वारिसनगर, उजियारपुर, मोरवा, हसनपुर, सुल्तानगंज, नाथनगर, अमरपुर, धौरेया, बेलहर, तारापुर, मुंगेर, इस्लामपुर, तरारी, डुमरांव, मोहनियां, चेनारी, दिनारा, काराकट, कुर्था, जहानाबाद, कुटुंबा, रफीगंज, इमामगंज, अतरी, नवादा और झाझा में भाजपा के उम्मीदवारों को जदयू-राजद गठबंधन से टक्कर मिल सकती है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:JD-U and BJP-RJD will bumpy ride