अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

विधि आयोग के खिलाफ वकीलों ने किया प्रदर्शन

भागलपुर, वरीय संवाददाता

विधि आयोग के प्रस्ताव के खिलाफ शुक्रवार को व्यवहार न्यायालय के अधिवक्ताओं ने प्रदर्शन किया और न्यायालय की कार्रवाई में भाग नहीं लिया। अधिवक्ताओं की टोली कोर्ट परिसर में घूम-घूमकर आयोग के प्रस्ताव का विरोध किया। विधिज्ञ संघ ने प्रस्ताव की निंदा की और आयोग के खिलाफ आगे भी आंदोलन करने की धमकी दी।

विधिज्ञ संघ के महासचिव संजय कुमार मोदी ने कहा कि वकील विरोधी प्रस्ताव के खिलाफ सक्रिय करीब दो हजार अधिवक्ता हड़ताल पर रहे। कहा सरकार ने वकीलों को कोई सुविधा नहीं दी है लेकिन संविधान में दिए गए अधिकार को भी छीनने की कोशिश की जा रही है। बार काउंसिल ऑफ इंडिया के आहवान पर पूरे देश के अधिवक्ता आज हड़ताल पर रहे।

स्टेट बार काउंसिल के सदस्य प्रेमनाथ ओझा ने कहा कि विधि आयोग का संशोधन प्रस्ताव 2017 वकील विरोधी है। केन्द्र सरकार को इस प्रस्ताव को ठुकरा देना चाहिए। वकीलों के स्वतंत्र पेशे पर विधि आयोग हमला करने की कोशिश कर रहा है। इस मौके पर डीबीए अध्यक्ष राजेन्द्र मंडल, अधिवक्ता दिलीप कुमार, संजीव कुमार, रामनाथ गुप्ता, संजय कुमार सिंह, निखिल सिंह, धर्मेन्द्र कुमार, नागेन्द्र नारायण शर्मा, राजीव रंजन सिंह, इस्माइल खान, मजहरूल हक आरजू, अजय कुमार दूबे, जितेन्द्र नाथ शर्मा, कपिल कुमार और राघवेन्द्र प्रसाद सहाय आदि अधिवक्ता उपस्थित थे।

आयोग के प्रस्ताव के खिलाफ बैठक

भागलपुर (व.सं.)। क्रांतिकारी अधिवक्ता संघ ने शुक्रवार को विधि आयोग के प्रस्ताव के खिलाफ बैठक की। बैठक की अध्यक्षता संघ के संयोजक संदीप कुमार झा ने की। वकीलों ने एक सुर से केन्द्र सरकार और विधि आयोग के प्रस्ताव का विरोध किया। कहा विधि आयोग में अधिकारियों के बदले वकीलों की हिस्सेदारी होनी चाहिए। प्रस्ताव तैयार करने के समय वकील संघों से सुझाव लेना चाहिए। बैठक में मो. जमालउद्दीन, चन्द्रशेखर झा, उमेश प्रसाद सिंह, पंकज सिंह, राजेंद्र पांडे और नरेश पासवान आदि अधिवक्ता उपस्थित थे।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:Lawyers protest against law commission