DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

भदार में दस हजार की आबादी को है महज कच्ची सड़क का सहारा, पेज छह

भदार में दस हजार की आबादी को है महज कच्ची सड़क का सहारा, पेज छह

पंचायतीराज के 17 साल बाद भी भदार गांव के पश्चिम छोर पर बसे लोगों को कच्ची सड़क का ही सहारा है। भदार गांव से सिकरौल-डुमरांव नहर मार्ग तक डेढ़ किलो मीटर लंबी यह कच्ची सड़क गड्ढों में तब्दील हो चुकी है। गांव की आधी अबादी आज भी इस टूटी-फूटी कच्ची सड़क से ही आवागमन कर रही है। बरसात के दिनों में ग्रामीणों को गांव के पश्चिम दिशा में निकलना काफी कष्टकारी हो जाता है। साथ ही इस सड़क से जुड़े आसपास के आधा दर्जन गांव के लोगों को भी परेशानी झेलनी पड़ती है।

जर्जर सड़क से अवरुद्ध है गांव का विकास: भदार गांव की आबादी लगभग दस हजार तथा वोटरों की संख्या 42 सौ है। प्रखंड के सबसे बड़ी अबादी वाली इस गांव में आवागमन के लिए दो रास्ते हैं। एक रास्ता पूरब दिशा में डुमरांव-बिक्रमगंज स्टेट हाइवे पर स्थित बासुदेवा से भदार तक आता है, जो पक्की है। इसी सड़क से जुड़ा हुआ एक रास्ता भदार गांव से पश्चिम सिकरौल- डुमरांव नहर मार्ग तक जाता है,जो आज भी कच्ची है। गांव की आधी अबादी का इस कच्ची रास्ते से आना-जाना लगा रहता है। साथ ही डुमरांव, सिकरौल व जिला मुख्यालय तक जाने के लिए यह रास्ता सुगम व नजदीक है। पर जन प्रतिनिधियों व प्रशासनिक अधिकारियों की उदासीनता से आज भी यह सड़क कच्ची है। जो जगह-जगह गड्ढों में तब्दील हो चुकी है। ग्रामीण बताते हैं कि जर्जर कच्ची सड़क के कारण गांव का विकास अवरुद्ध है। बरसात के दिनों में इस सड़क पर आवागमन पूरी तरह ठप हो जाता है। डेढ़ किमी लम्बी इस जर्जर सड़क का निर्माण हो जाएगा तो भदार सहित आसपास के आधा दर्जन गांव धबछुआ, बेलहरी, खरवनिया आदि के लोगों को काफी सहूलियत होगी।

ग्रामीणों को जन प्रतिनिधियों का मिलता रहा झूठा आश्वासन: भदार गांव के ग्रामीण ददन सिंह, गोरख राम, हवलदार रजक व कमलेश चौरसिया ने बताया कि सड़क की पक्कीकरण के लिए जन प्रतिनिधियों से लेकर प्रशासनिक अधिकारियों से गुहार लगाई गई। पर किसी ने सड़क की कायाकल्प करने की ओर ध्यान नहीं दिया । उल्टे अभी तक सड़क की पक्कीकरण कराने का जन प्रतिनिधियों से झूठा आश्वासन मिलता रहा। ग्रामीणों ने बताया कि पूर्व विधायक डा दाउद अली ने मुख्यमंत्री सड़क योजना के तहत सड़क की मंजूरी मिलने की बात कही थी। पर आज तक सड़क नहीं बन पाया। इस संबंध में पूछे जाने पर ग्रामीण कार्य विभाग डुमरांव के कार्यपालक अभियंता अशोक कुमार ने बताया कि उक्त सड़क निर्माण के लिए विभाग से स्वीकृति नहीं मिली है। स्वीकृति मिलते ही निर्माण कार्य शुरू करा दिया जाएगा।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: The ten thousand people in the community have the support of the raw road.