DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

तैयार हो जाओ हाउस टैक्स से होगी जेब ढीली

हाउस टैक्स की दरों में बदलाव के बाद एक बार फिर जनता को टैक्स की मार पड़ने जा रही है। नगर निगम ने पुरानी टैक्स दरों में परिवर्तन कर उसको जारी करने की तैयारी कर ली है। 80 हजार करदातओं पर टैक्स का बोझ पड़ेगा। सबसे ज्यादा कॉमर्शियल भवनों पर असर होगा। विरोध के सुर तेज हो गए हैं नगर निगम लिस्ट प्रकाशित करने जा रहे हैं। 

नगर निगम बरेली पूरे सूबे में टैक्स में सेल्फ असेसमेंट लागू करने वाला पहला निगम बना था। साल 2011 में रिवाइज्ड दरें तय होने के बाद पूरे शहर में आम- ओ- खास में इसके खिलाफ विरोध शुरू हो गया। नई रिवाइज्ड दरों में राजधानी लखनऊ का सबसे पॉश इलाके हजरतगंज की भी दरें बरेली के डीडीपुरम की टैक्स दरों के मुकाबले आधी थी। यह लड़ाई 4 साल चली और 2015 को रिवाइल्ड दरों को लागू कर दिया गया। इसके खिलाफ भी शहर के जनता और सामाजिक संगठनों ने तेवर दिखाए। नगर निगम अधिकारियों का घेराव कर विरोध करना शुरू किया। मामला हाईकोर्ट तक पहुंचा और फिर से दरों को संशोधन करने के फैसला लिया गया। बताया जा रहा है शहर के 300 से ज्यादा भवनों में टैक्स की मार पड़ेगी। 

अपर नगरायुक्त ईश शक्ति कुमार सिंह ने बताया कि टैक्स दरों में संशोधन कर लिया गया है। सूची को जांचा जा रहा है। जल्द ही लिस्ट प्रकाशित कर दी जाएगी। नई दरों से टैक्स की वसूली एक अप्रैल से शुरू हो गई है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:get ready house tax pocket loose