DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

विधायक ने किया सरेंडर, मिली जमानत

साल 2012 में खागा में बदहाल बिजली आपूर्ति के मुद्दे पर समर्थकों संग हाईवे जाम करने के आरोप में नामजद विधायक कृष्णा पासवान ने दूसरे आरोपी भाजपा नेता रामगोपाल सिंह के साथ मंगलवार को कोर्ट में आत्मसपर्मण कर दिया। लोअर कोर्ट ने दोनों को न्यायिक हिरासत में लेने का आदेश दिया।

निचली अदालत द्वारा जमानत प्रार्थना पत्र खारिज होने के बाद जनपद न्यायाधीश ने बेल अप्लीकेशन पर सुनवाई करते हुए दोनों आरोपियों को राहत देते हुए अंतरिम बेल प्रदान कर दी। अब मामले की अगली सुनवाई छह फरवरी हो है।

खागा विधायक कृष्णा पासवान एवं रामगोपाल सिंह ने सुबह जनपद न्यायालय के कोर्ट नंबर दस में आत्मसमर्पण कर दिया। दोनों आरोपियों के खिलाफ कोर्ट ने वारंट जारी किया था। दोनो नेताओं के आत्मसमर्पण करने पर कोर्ट ने दोनों को न्यायिक हिरासत में लेने के आदेश दिए। इसके बाद वकीलों ने न्यायालय के समक्ष दोनो आरोपियों की जमानत के लिए प्रार्थना पत्र प्रस्तुत किया।

प्रार्थना पत्र सुनने के बाद कोर्ट ने बेल अप्लीकेशन खारिज कर दी। इस पर वकीलों ने डीजे कोर्ट में जमानत के लिए प्रार्थना पत्र प्रस्तुत कर दिया। जमानत प्रार्थना पत्र पर सुनवाई के पश्चात जनपद न्यायाधीश जयकृष्ण तिवारी ने विधायक और भाजपा नेता को राहत देते हुए अंतरिम जमानत मंजूर कर ली।

हाईवे जाम करने के आरोप में 67 हैं नामजद

नगर की बदहाल बिजली व्यवस्था को लेकर हाईवे में चक्का जाम करने के आरोप में नामजद आरोपियों को कोर्ट ने तलब किया था। इसमें खागा विधायक कृष्णा पासवान, भाजपा नेता व जिला पंचायत अध्यक्ष के पति अभय प्रताप सिंह उर्फ पप्पू सिंह, भाजपा नेता रामगोपाल सिंह, व्यापार मंडल अध्यक्ष शिवचंद्र शुक्ल समेत कई सभासद और नागरिक शामिल हैं। चक्का जाम और पथराव पर कोतवाली के तत्कालीन प्रभारी निरीक्षक गोपालकृष्ण गुप्त ने 67 नामजद और करीब 250 अज्ञात के खिलाफ मुकदमा दर्ज कराया था। प्रशासन ने धरना स्थल की वीडियो रिकार्डिंग भी कराई थी। सूत्र बताते हैं कि वीडियो रिकार्डिंग के आधार पर लोगों की पहचान कर उन्हें नामजद किया गया था। 62 लोगों के खिलाफ अदालत में आरोप पत्र दाखिल किया था।

एसडीएम और सीओ भी हुए थे घायल

घटना में तत्कालीन एसडीएम और सीओ के साथ प्रभारी निरीक्षक गोपालकृष्ण गुप्त, सिपाही इन्द्रमणि व ओमप्रकाश शुक्ल भी घायल हुए थे। बताते हैं कि भीड़ ने पुलिस बल और अधिकारियों पर पथराव कर दिया था। जिससे इन्हें काफी चोटें आईं। उधर पुलिस के लाठीचार्ज में भी भीड़ में शामिल नेताओं और नागरिकों को भी काफी चोटें आई थीं। विधायक कृष्णा पासवान ने भी अपना इलाज कराया था।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: The MLA surrenders, gets bail