DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

बलिया : डा. योगेन्द्र सिंह ने संभाला कुलपति का कार्यभार

जननायक चंद्रशेखर विश्वविद्यालय के पहले कुलपति के रूप में प्रो. (डा.) योगेन्द्र सिंह ने शुक्रवार को यहां कार्यभार ग्रहण कर लिया। दोपहर करीब दो बजे वे बसंतपुर स्थित शहीद स्मारक परिसर में पहुंचे। वहां विश्वविद्यालय के अस्थायी भवन में पूर्व प्रधानमंत्री चंद्रशेखर के चित्र पर माल्यार्पण के बाद वैदिक मंत्रोच्चार के बीच पूजन किया और संस्थापक कुलपति की जिम्मेदारी संभाली।

इस दौरान पत्रकारों से बातचीत में कुलपति ने कहा कि शैक्षणिक सत्र तो अगले साल जून-जुलाई से ही शुरू होगा लेकिन यदि अनुमति मिली तो इस साल की परीक्षा भी वे इस विश्वविद्यालय से कराने का प्रयास करेंगे। फिलहाल बलिया के अलावा और कौन से जिले या कितने कालेज इस विश्वविद्यालय से सम्बद्ध होंगे, यह तय नहीं हो पाया है। हालांकि जल्द ही पूरी तस्वीर साफ हो जायेगी। चंद्रशेखर के व्यक्तित्व व कृतित्व को नमन करते हुए प्रो. सिंह ने कहा कि चंद्रशेखर जी के नाम पर स्थापित इस विश्वविद्यालय को उनकी सोच व गरिमा के मुताबिक सजाने-संवारने का प्रयास करेंगे। चंद्रशेखर को अपना आदर्श बताते हुए प्रो. सिंह ने कहा कि उनके जीवन ने मुझे पढ़ाई के समय से ही काफी प्रभावित किया है। उनके साथ उनकी पदयात्रा में भी रहा। वे हमेशा परिणाम की बात करते थे। कहा कि उनकी सोच के अनुसार बलिया की लोकसंस्कृति को मजबूती देने के साथ ही भोजपुरी के विकास का भी प्रयास इस विवि के माध्यम से होगा। परम्परा संग आधुनिक ज्ञान-विज्ञान के क्षेत्र में यह विश्वविद्यालय नया आयाम स्थापित करे, इसका प्रयास होगा। मूल रूप से चंदौली के रहने वाले प्रो. सिंह ने भावुक अंदाज में कहा कि पूर्व प्रधानमंत्री की आत्मा से प्रेरणा लेकर बलिया से बाहर रहने वाले प्रबुद्ध लोगों से सम्पर्क कर विश्वविद्यालय को सजाने में उनसे भी मदद की अपील करेंगे। उन्होंने चंद्रशेखर विश्वविद्यालय का संस्थापक कुलपति बनने का गौरव प्रदान करने के लिए राज्यपाल व मुख्यमंत्री के प्रति आभार भी जताया। इस दौरान सांसद नीरज शेखर, काशी विद्यापीठ के रजिस्ट्रार भी थे।

कालेज के प्राचार्यों-प्रबंधकों ने किया स्वागत

कुलपति नियुक्त होने के बाद पहली बार यहां आने पर प्रो. योगेन्द्र सिंह का विभिन्न कालेजों के प्राचार्यों व प्रबंधकों ने बुके व माला देकर सम्मानित किया। इनमें एससी कालेज के प्राचार्य डा. अशोक उपाध्याय, कुंवर सिंह व टीडी कालेज के प्राचार्य, विश्वविद्यालय शिक्षक संघ के नेता काशीनाथ सिंह, स्ववित्तपोषित महाविद्यालय संघ के डा. अखिलेश राय, अमित सिंह, पूर्वांचल छात्र संघर्ष समिति के संयोजक नागेन्द्र बहादुर सिंह झुन्नू, टीडी कालेज छात्रसंघ के अध्यक्ष सौरभ सिंह रानू आदि थे। छात्रनेताओं ने कुलपति से अपील की कि जिस पवित्र उद्देश्य के साथ महान व्यक्तित्व के नाम पर विश्वविद्यालय की स्थापना की गयी है, उसके मुताबिक ही इसे संचालित करने का प्रयास होना चाहिए। बीएसए डा. राकेश सिंह ने भी संस्थापक कुलपति का स्वागत बुके देकर किया।

कइनसेटक

शहीद स्मारक परिसर में लगा विश्वविद्यालय का बोर्ड

0 पर्याप्त हॉल, कमरे व जगह देख सभी हुए मुग्ध

हनुमानगंज। शहीद स्मारक परिसर में बने एक भवन पर अब 'जननायक चंद्रशेखर विश्वविद्यालय' का बोर्ड शुक्रवार को लग गया। बताया जाता है कि इस भवन का निर्माण उस समय शोधकेन्द्र के उद्देश्य से कराया गया था। हालांकि वह मूर्त रूप नहीं ले सका था।

पूर्व प्रधानमंत्री चंद्रशेखर के ड्रीम प्रोजेक्ट के रूप में शहीद स्मारक को जाना जाता है। इस परिसर में उक्त शोध केन्द्र के अलावा विकलांग केन्द्र, ऑडिटोरियम, वृद्धाश्रम, सांस्कृतिक केन्द्र आदि का निर्माण भी कराया गया था। एशिया का सबसे ऊंचा फव्वारा भी यहां लगाया गया। हालांकि चंद्रशेखर के निधन के बाद सभी प्रोजेक्ट पर विराम सा लग गया। भवन वीरान हो गये तथा परिसर में झाड़-झंखाड़ उग आये। अब इस परिसर में विश्वविद्यालय की स्थापना के बाद फिर से इसमें हरियाली आने की उम्मीद पक्की हो गयी है। शुक्रवार को कुलपति के कार्यभार ग्रहण करते समय इसकी आहट भी महसूस की गयी। जिस भवन पर विश्वविद्यालय का बोर्ड लगा है, उसमें बड़े-बड़े आठ हाल बने हैं और वे पूरी तरह लक-दक हैं। बिजली-पंखा तक अपडेट हैं। कुलपति के साथ आये विद्यापीठ के कर्मचारियों ने इसे देखा तो आश्चर्य में पड़ गये। कहा, इतने बडे़ हाल तो शायद विद्यापीठ में भी नहीं। एक बड़ा हाल देखकर हैरान कर्मचारियों ने बताया कि इसमें एक साथ कई कार्यालय संचालित हो सकते हैं। उत्तर पुस्तिकाओं के मूल्यांकन आदि की भी पर्याप्त जगह देखकर सभी गदगद हो गये।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:Ballia: Dr. Yogendra Singh took over as chancellor