बच गये पौने दो करोड़ रुपए - बच गये पौने दो करोड़ रुपए DA Image
19 नबम्बर, 2019|10:11|IST

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

बच गये पौने दो करोड़ रुपए

बच गए पौने दो करोड़ रुपए। अपने कनीय इजीनियर की करतूत का पर्दाफाश करने के कारण परेशानी में आ गये वरीय इंजीनियर को धमकी भी सहनी पड़ी। पर विभागीय प्रमुखों की तत्परता के कारण आरोपी कनीय इंजीनियर को पहले ट्रांस्फर और फिर सस्पेंशन की सजा मिली। उनको सहयोग करने वाले एक्जीक्यूटिव इंजीनियर को किनारे कर दिया गया।  मामला सडक़ निर्माण से जुड़ा है। नीतीश सरकार ने पिछले चार वर्षो में सडक़ निर्माण पर 11200 करोड़ रुपए खर्च किये हैं। सडक़ निर्माण सरकार की प्राथमिकता है।

सड़क निर्माण के लिए सबसे जिम्मेवार पथ निर्माण विभाग के पटना कार्यालय में इस घोटाले की तैयारी की गई। महत्वपूर्ण राजपथ ‘बेली रोड’ के पुनर्निर्माण में पौने दो करोड़ रुपए उड़ाने की कोशिश हुई। बेली रोड रेलवे क्रासिंग से पुलिस वायरलेस ऑफिस (पटना गोल्फ क्लब) तक बेली रोड के एक भाग (दक्षिणी हिस्सा) के निर्माण में यह गोलमाल होना था। अलकतरा का पहला लेयर (बीएम) कराये बिना गलत मापी दर्ज कर 1 करोड़ 70 लाख 68 हजार रुपए का बिल समर्पित कर दिया गया। वरीय इंजीनियर ने जांच करायी तो पता चला कि फर्जी नापी दर्ज कर विपत्र तैयार किया गया है। चूंकि जांच कराने वाले वरीय इंजीनियर पर ऊपर से भी इस बिल के  शीघ्र भुगतान का दबाव बनाया जा रहा था इसलिए वरीय इंजीनियर को संदेह हुआ। वरीय इंजीनियर ने ऊपर के सभी अधिकारियों, विभागीय सचिव एवं मंत्री को पूरी जानकारी दी। सघन जांच के बाद आरोपी कनीय इंजीनियर को सजा दी गई। वहीं बिल भुगतान के लिए दबाव बनाने वाले एक्जीक्यूटिव इंजीनियर का पदस्थापन मुख्यालय में (नन वर्क्स) किया गया है। 

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:बच गये पौने दो करोड़ रुपए