न दरी बिछाने दी और न लाउडस्पीकर लग सका - न दरी बिछाने दी और न लाउडस्पीकर लग सका DA Image
14 दिसंबर, 2019|1:49|IST

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

न दरी बिछाने दी और न लाउडस्पीकर लग सका

सीएसजेएम विश्वविद्यालय कैम्पस में सोमवार को जमीन में बैठ कर शिक्षकों ने धरना दिया। इन्हें न तो पण्डाल लगाने की अनुमति दी गई और न ही जमीन पर दरी बिछाने या लाउडस्पीकर लगाने की इजाजत। पुलिस एवं प्रशासन के दबाव में धरना करीब एक घंटा पहले ही खत्म करना पड़ा।

छठे वेतनमान से जुड़ी कई माँगों को लेकर परीक्षा बहिष्कार कर रहे डिग्री शिक्षकों ने पहले से तय कार्यक्रम के अन्तर्गत अपने-अपने विश्वविद्यालयों में धरना दिया। इसी कड़ी में सीएसजेएम से सम्बद्ध कॉलेजों के शिक्षक बाहरी जनपदों से भी बड़ी संख्या में भाग लेने आए। सुबह शासन स्तर से मिले संदेश के बाद विवि प्रशासन सख्त हो गया और उसने कैम्पस में धरना प्रदर्शन करने से रोका। गेट पर कहासुनी के बाद शिक्षक प्रशासनिक भवन के सामने पहुँच गए।

पुलिस बल पहुँचने के बाद इन्हें मनाने की कोशिश की गई, लेकिन शिक्षक धरना दिए बगैर जाने को राजी नहीं हुए। शिक्षक तपती जमीन पर बैठ गए और नारेबाजी करने लगे। कूटा महामंत्री डॉ. विवेक द्विवेदी ने कहा कि वे विश्वविद्यालय से टकराव नहीं चाहते हैं। लेकिन सरकार को शिक्षकों की माँगे मान लेनी चाहिए। परीक्षा बहिष्कार से जो भी परेशानियाँ आ रही हैं, उसे शिक्षक वर्ग अतिरिक्त कार्य कर पूरा कर लेगा।

सत्र को नियमित रखने में भरपूर सहयोग करेगा। पर सरकार को शिक्षकों की डिमाण्ड पूरी करनी पड़ेगी। कुलसचिव महेश चन्द्र के पहुँचते ही उन्हें कूटा ने ज्ञापन सौंपा। इसके बाद धरना खत्म कर दिया गया। इस अवसर पर कूटा महामंत्री डॉ. विवेक द्विवेदी, वरिष्ठ उपाध्यक्ष डॉ. आरके सिंह, डॉ. संतोष त्रिपाठी, डॉ. वीके दीक्षित, अब्दुल कदीर, अरुण वर्मा, सुचित्र वर्मा, सुनीता त्रिपाठी, यूसुफ रुमी, उदयवीर सिंह, संगीता अवस्थी, संदीप सिन्हा, जागेश्वर द्विवेदी, रीता अवस्थी और डॉ. एमपी सिंह आदि मौजूद थे।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:न दरी बिछाने दी और न लाउडस्पीकर लग सका