दो टूक (08 मार्च, 2010) - दो टूक (08 मार्च, 2010) DA Image
10 दिसंबर, 2019|4:12|IST

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

दो टूक (08 मार्च, 2010)

‘इच्छाधारी बाबा’ एक खास व्यक्ति का नाम तो है, लेकिन व्यापक अर्थो में यह एक पूरे वर्ग को प्रतिध्वनित करता है। इस वर्ग के नुमाइंदे जगह-जगह मिल जाएंगे। मूर्त और अमूर्त के बीच सेतु बनने के नाम पर तमाम अधार्मिक क्रियाकलापों में लिप्त। 

धर्म को वास्तविक खतरा ऐसे ही छद्म लोगों से है। अक्षर ज्ञान से वास्ता न रखने वाले इनके झांसे में आ जाएं, समझ में आता है। लेकिन पढ़े-लिखे लोगों का शिकार बन जाना चिंता की बात है। ज्ञान के लिए मूल स्त्रोत को अपनाएंगे तो ऐसे तत्व विचलित न कर सकेंगे। एक बार झांक कर तो देखें, आपकी तमाम शंकाओं का समाधान ग्रंथों में ही मौजूद है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:दो टूक (08 मार्च, 2010)