अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

शंकर पार्वती बने दो जोड़ों ने रचाई शादी

महाशिवरात्रि के पावन पर्व पर सोमवार रात विंध्याचल में शंकर पार्वती बने दो युवक और दो युवतियों का वास्तव में विवाह सम्पन्न हुआ। शिव बने दूल्हा और पार्वती बनी दुल्हन की अनोखी शादी देखने के लिए भारी भीड़ जमा थी। शिवरात्रि पर शिव बारात की झांकी को यादगार बनाने के लिए विंध्याचल देवी धाम में दो युवक एवं दो युवतियों का पाणिग्रहण संस्कार कराया गया। दोनों शादियां पहले से तय थीं। इस विचित्र बारात में शिव बने दूल्हे बाकायदा भूत भावन शंकर के रूप में थे। उनके बारातियों की स्थिति भूतों से भिन्न नहीं थी। विचित्र झांकियों से सजी यह बारात आम जन के लिए आकर्षण का केन्द्र थी जो भी इस अद्भुत बारात को देखता अपनी हंसी नहीं रोक पाता था। सरकारी बस स्टैण्ड से बारात रवाना होकर स्थानीय रत्नाकर पंडा के आवास पर पहुंची जहां पार्वती बनी दुल्हनों का वेद मंत्रों के बीच बाकायदा शादी सम्पन्न हुई। बरातियों ने दुल्हन पक्ष का आतिथ्य स्वीकार कर भांग ठंडाई के साथ विभिन्न व्यंजनों का लुफ्त उठाया। दुल्हन विदाई के बाद दोनों अपने अपने ‘शंकर’ के साथ ससुराल विदा हो गई। शादी का सम्पूर्ण खर्च बदेनाथ सेवा समिति ने उठाया। पहले जोड़े में कहवी के शंकर लाल का विवाह विंध्याचल की मैना के साथ बार दूसरे में वाराणसी के राकेश की शादी विंध्याचल के ही त्रिलोकी की पुत्री मीनू के साथ सम्पन्न हुई। इस दौरान वर एवं वधू पक्ष के नाते रिश्तेदार भी शामिल थे।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: शंकर पार्वती बने दो जोड़ों ने रचाई शादी