विलय से हुआ विमानन कंपनियों को भारी घाटा - विलय से हुआ विमानन कंपनियों को भारी घाटा DA Image
13 नबम्बर, 2019|9:52|IST

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

विलय से हुआ विमानन कंपनियों को भारी घाटा

विलय से हुआ विमानन कंपनियों को भारी घाटा

एयर इंडिया और इंडियन एयरलाइंस तथा किंगफिशर एयरलाइंस एवं एयर डेक्कन के विलय के बाद विमानन क्षेत्र की इन कंपनियों के घाटे में भारी इजाफा हुआ है।

आधिकारिक आंकड़ों के अनुसार, एयर इंडिया का परिचालन करने वाली भारतीय राष्ट्रीय विमानन कंपनी लि (नासिल) का घाटा 2008-09 में दोगुना से ज्यादा होकर 5,548 करोड़ रुपये पर पहुंच गया, जबकि 2007-08 में यह 2,226.16 करोड़ रुपये था।

इसी तरह किंगफिशर एयरलाइंस का घाटा इसी अवधि के दौरान चार गुना होकर 408.91 करोड़ रुपये से 1,602 करोड़ रुपये पर पहुंच गया है। इसी तरह जेट एयरवेज और उसकी सहायक इकाई जेटलाइट (पूर्व में एयर सहारा) का घाटा इस दौरान 695.10 करोड़ रुपये से बढ़कर 1,032.7 करोड़ रुपये पर पहुंच गया है।

विलय के अलावा ईंधन की ऊंची लागत, वैश्विक आर्थिक मंदी तथा प्रतिस्पर्धा की वजह से आमदनी कम होने जैसे कारणों से भी विमानन कंपनियों कर घाटा बढ़ रहा है। हालांकि, सरकार ने सार्वजनिक क्षेत्र की दो विमानन कंपनियों के विलय के अपने फैसले का बचाव किया है। सरकार का कहना है कि विलय से ही ये कंपनियां कड़ी वैश्विक और घरेलू प्रतिस्पर्धा में टिकी रह सकती हैं।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:विलय से हुआ विमानन कंपनियों को भारी घाटा