सभी समझते थे कि मैं भी सिंगर बनूंगा: आदित्य नारायण - सभी समझते थे कि मैं भी सिंगर बनूंगा: आदित्य नारायण DA Image
17 नबम्बर, 2019|1:59|IST

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

सभी समझते थे कि मैं भी सिंगर बनूंगा: आदित्य नारायण

सभी समझते थे कि मैं भी सिंगर बनूंगा: आदित्य नारायण

स्टार किड्स की अगली खेप में उदित नारायण के बेटे आदित्य का नाम भी शामिल है। टीवी पर वह एंकरिंग कर पहले ही काफी नाम कमा चुके हैं और अब 19 मार्च को रिलीज होने जा रही है फिल्म ‘शापित’ में वह हीरो बन कर आ रहे हैं।

सब सोच रहे थे कि आप गायक बनेंगे। तो ये एक्टिंग की कैसे सूझी?
ये विचार शुरू से ही मेरे जेहन में था। चूंकि मैं उदित नारायण जी का बेटा हूं तो लोगों को लगता था कि यह तो सिंगर ही बनेगा। मैं एक सही कहानी के इंतजार में था। एक सही रोल, जो मुझ पर सूट करता।

एक बाल-कलाकार के रुप में आगे क्यों नहीं बढ़े?
12-13 साल की उम्र के बाद मेरी शक्ल बदली, आवाज भी और फिर पढ़ाई भी मुश्किल होने लगी। तो हमने तय किया कि कुछ समय के लिए गायकी और अभिनय के बारे में विचार त्याग दिया जाए।

क्या आपने एक्टिंग सीखी भी है?
नहीं। जब मुझे यह फिल्म ऑफर हुई तो विक्रम जी ने इसकी जरूरत नहीं समझी। 

ऑफर तो और भी मिले होंगे?
ऑफर कई आए, लेकिन मैंने सोचा कि अगर आगे बढ़ना है तो इस समय पूरा फोकस ‘शापित’ पर करना होगा।

लेकिन विक्रम भट्ट ने लंबे अर्से से हिट फिल्म नहीं दी है?
फ्लॉप फिल्में तो सभी देते हैं। सबसे अहम बात यह है कि ‘शापित’ पर उनका बहुत यकीन था, क्योंकि यह उनके स्टाइल की फिल्म है।

माना जाता है कि लॉन्च पैड के लिए रोमांटिक फिल्में ठीक रहती हैं?
रोमांटिक फिल्में भी पिट जाती हैं। असल चीज स्क्रिप्ट होती है।

बतौर गायक भी कुछ कर रहे हैं?
जी, बिल्कुल। ‘शापित’ के चार गाने मैंने ही गाए हैं और इसका टाइटल गीत मैंने ही कंपोज किया है।

माता-पिता कितनी मदद करते हैं?
बस, प्यार और आशीर्वाद देते हैं और मुझे प्रोत्साहित करते हैं।

आगे किस तरह की फिल्में करने का इरादा है?
यह तो तय है कि मैं एक समय में एक ही फिल्म करूंगा। मैंने अपने लिए कोई हदें तय नहीं की हैं और न ही मैं किसी तरह की जल्दी में हूं। लोग शायद भूल जाते हैं कि मैं अभी सिर्फ 22 साल का हूं।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:सभी समझते थे कि मैं भी सिंगर बनूंगा: आदित्य नारायण