खुश तो दिल दुरुस्त - खुश तो दिल दुरुस्त DA Image
13 नबम्बर, 2019|12:44|IST

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

खुश तो दिल दुरुस्त

दिल खुश हो, तो दिल दुरुस्त रहता है। दिल पर बोझ होता है, तो दिल कमजोर होता है। पहली नजर में यह कोई लोक कहावत लगती है, लेकिन इसी मुकाम पर मेडिकल रिसर्च पहुंचने लगी है। कोलंबिया यूनिवर्सिटी मेडिकल सेंटर की डॉ. करीना डेविडसन का कहना है कि खुश रहना एक पॉजिटिव अंदाज है। और हम देख रहे हैं कि पॉजिटिव अंदाज और दिल की बीमारी के बीच कोई रिश्ता जरूर है।
 
अब तक करीना की टीम दोनों के बीच के रिश्ते को महसूस ही करते रहे हैं, लेकिन अब वे उसकी पूरी रिसर्च में लगे हैं। पिछले दस सालों में इस टीम ने तकरीबन 1800 लोगों का परीक्षण किया है। यह पाया गया कि लगातार पॉजिटिव रहने वालों में दिल की बीमारी का खतरा करीब 22 फीसदी कम हो जाता है। फिर वे लोग जो लगातार उदासी या डिप्रेशन वगैरह से घिरे रहते हैं उनको देखा गया। निगेटिव अंदाज में रहने वाले लोगों में बीमारी का खतरा उलटे 22 फीसदी बढ़ जाता है। इसमें एक खास बात निकल कर आई। वे लोग जो अक्सर खुश रहते हैं, लेकिन उस वक्त डिप्रेशन में थे, उनके लिए बीमारी का जोखिम कम ही था। 

परमहंस योगानंद कहते हैं,‘खुश रहने वाला पूरे माहौल को बदल डालता है। उसी तरह दुखी रहने वाला भी समूचे माहौल को बदल देता है।’ असल में खुश रहने वाला पूरे माहौल को खुशनुमा बना देता है और दुखी रहने वाला सारे माहौल को गमगीन।  

हमारी जिंदगी में हर रोज खुश रहने की दस वजह होती हैं। उसी तरह दुखी रहने की भी दस वजह होती हैं। अब यह हम पर निर्भर करता है कि किन वजहों को अपने ऊपर हावी होने दें, लेकिन अगर दिल खुश रखने से दिल दुरुस्त रहता है तो क्यों न उसे खुश रखें। तो क्या सोचा आपने!

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:खुश तो दिल दुरुस्त