अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

सर्विस,एक्साइचा टैक्स दो फीसदी कम

सरकार ने जाते-ााते मध्यवर्ग की वाह-वाही लूटने के लिए राहत का पिटारा खोल दिया। अब न सिर्फ टेलीफोन और केबल टीवी का बिल कम देना होगा बल्कि परिवार के साथ सैर-सपाटे पर होने वाले खर्च भी कम हो जाएँगे। बच्चों की कोचिंग का खर्च भी घटेगा। विभिन्न उपभोक्ता उत्पाद सस्ते हो जाएँगे। घर सँवारना, खरीदना और बनाना भी आसान होगा क्योंकि स्टील और सीमेंट भी सस्ता होगा।ड्ढr वजह यह है कि वित्त मंत्री प्रणव मुखर्जी ने मंगलवार को लोकसभा में अंतरिम बजट पर हुई बहस का जवाब देते हुए एक्साक्ष ड्यूटी और सर्विस टैक्स की दरों में दो-दो फीसदी की कटौती की घोषणा की है। मंदी के बीच उद्योगों और उद्यमियों को राहत देने के लिए एक्साक्ष ड्यूटी की सामान्य दर अब 10 से घटकर आठ प्रतिशत हो गई है। सर्विस टैक्स की दर घटकर 10 प्रतिशत हो गई है। पहले 12 प्रतिशत थी। मंगलवार को ही लोकसभा में प्रणव ने ब्याज दरों में कटौती के भी संकेत दिए। उनके मुताबिक अर्थव्यवस्था की माँग को ध्यान में रखते हुए बैंक ब्याज दर कम कर सकते हैं।ड्ढr इस बीच केन्द्रीय उत्पाद एवं सीमा शुल्क बोर्ड के चेयरमैन पीसी झा का कहना है कि करों में कटौती के इस फैसले से सर्विस टैक्स में एक खरब 40 अरब रुपए, एक्साक्ष ड्यूटी में 85 अरब रुपए और कस्टम ड्यूटी में 66 अरब रुपए की राजस्व हानि होगी। मुखर्जी ने मंगलवार को लोकसभा में कहा- ‘इस फैसले को उद्योगों व उद्यमियों को मिले एक और प्रोत्साहन पैकेा के रूप में देखा जाना चाहिए। इन फैसलों से लगभग दो खरब 0 अरब रुपए का घाटा तो होगा लेकिन उद्योगों का आत्मविश्वास लौटाने के लिए यह फैसला जरूरी है।’ चर्चा के बाद लोकसभा में अंतरिम बजट ध्वनिमत से पारित हो गया।ड्ढr

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: सर्विस,एक्साइचा टैक्स दो फीसदी कम