आर्थिक मोर्चे पर सिर्फ चीनी नीति विफल रहीः प्रधानमंत्री - आर्थिक मोर्चे पर सिर्फ चीनी नीति विफल रहीः प्रधानमंत्री DA Image
15 नबम्बर, 2019|12:20|IST

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

आर्थिक मोर्चे पर सिर्फ चीनी नीति विफल रहीः प्रधानमंत्री

आर्थिक मोर्चे पर सिर्फ चीनी नीति विफल रहीः प्रधानमंत्री

चीनी के बढ़ते दामों और इसके लिए कृषि मंत्री शरद पवार की हो रही आलोचनाओं के बीच प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह ने शुक्रवार को माना कि सरकार की चीनी नीति विफल रही है और गन्ने के उत्पादन की चक्रीय प्रकृति के अनुरूप उचित प्रबंधन नहीं किया गया।

देश में चीनी की बढ़ती कीमतों के बावजूद चीनी निर्यात के विपक्ष के आरोपों पर सिंह ने कहा कि आर्थिक क्षेत्र में अगर कोई विफलता हुई है तो वह एकमात्र विफलता चीनी की चक्रीय प्रकृति के अनुरूप व्यवहारिक प्रबंधन नहीं करने की रही।

प्रधानमंत्री ने संसद के दोनों सदनों में राष्ट्रपति के अभिभाषण प्रस्ताव पर धन्यवाद प्रस्ताव की चर्चा के जवाब में कहा कि गन्ने के उत्पादन की चक्रीय प्रकृति को समझना जरूरी है। पिछले 50 साल का रूझान बताता है कि हर तीन साल गन्ने के अच्छे उत्पादन के बाद इसमें कमी आती है।

उन्होंने कहा कि चीनी के दाम इन्हीं चक्रीय कारकों से बढे हैं जो हमारे नियंत्रण से बाहर है। लेकिन हम कोशिश करेंगे कि भविष्य में चीनी की कीमतें स्थिर बनी रहें चाहे उसकी चक्रीय स्थिति कैसी भी क्यों न हो। उन्होंने कहा कि नवंबर और दिसंबर 2009 में चीनी का आयात काफी मात्रा में किया गया जबकि निर्यात मामूली।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:आर्थिक मोर्चे पर सिर्फ चीनी नीति विफल रहीः प्रधानमंत्री