जनता को नसीब नहीं,प्लांट पी जाता एक चौथाई गंगाजल - जनता को नसीब नहीं,प्लांट पी जाता एक चौथाई गंगाजल DA Image
13 नबम्बर, 2019|10:37|IST

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

जनता को नसीब नहीं,प्लांट पी जाता एक चौथाई गंगाजल

 एक ओर गंगाजल आपूर्ति वाली कालोनियों मे जहां सालों भर पेयजल किल्लत से जूझतें हैं वही गंगाजल प्लांट ही रोजाना कई लाख लीटर पानी पी जाता है। वर्षो से इस पानी का कोई माई-बाप नहीं। ट्रांस हिंडन की कालोनियों में वैसे तो सालों से गंगाजल की आपूर्ति की जात है लेकिन रोजाना मिलने वाले कुल् 30 क्यूसेक में से लगभग सा7 क्यूसेक  गंगाजल प्लांट में ही रह जाता है। यह भी सिर्फ बिजली की कमी से। जलकल के सूत्र बताते हैं अगर इस करोड़ों लीटर पानी से रोजाना आपूर्ति की जाए तो इलाके में इंदिरापुरम,वसुंधरा,वैशाली,कौशाम्बी समेत डेल्टा क्षेत्र की पांचों कालोनियों में आधा से एक घंटे अतिरिक्त पानी मिलेगा। ऐसे में लोंगों को पानी की किल्लत नहीं होगी। आच्छादित ट्रांस हिंडन की कालोनियों के लाखों लोग पेयजल किल्लत से जूझ रहे हैं।


प्रताप विहार प्लांट से गाजियाबाद को रोजाना तीस क्यूसेक गंगाजल मिलता है। कुल 30 क्यूसेक पानी से आठ क्यूसेक से इंदिरापुरम कालोनी को सप्लाई दी जाती है जबकि 22 क्यूसेक पानी से वैशाली,वसुंधरा,कौशाम्बी तथा डेल्टा कालोनियों सूर्यनगर,बृजविहार समेत उधर की पांचों कोलोनियों में सप्लाई होती है। इससे सिर्फएक ही समय में आपूर्ति आधा घंटे की होती है।


नगरायुक्त ने गंगाजल प्लांट का निरीक्षण किया तो पता चला कि 22 क्यूसेक में से मात्र 15 क्यूसेक की ही सप्लाई हो पाती है बाकी के सात क्यूसेक यानि 1.60 करोड़ लीटर रोजाना प्लांट में ही रह जाता है। बिजली की कमी के कारण यह पानी बैकफ्लो हो जाता है और टंकी तक नही पहुंच पाता। नगरायुक्त अजय शंकर पांडेय ने बताया कि अब प्लांट पर 160 केवीए का जनरेटर लगाया जाएगा,जनरेटर के जरिए ही रोजाना करोड़ो लीटर पानी को प्लांट से टंकियों में भेजकर गंगाजल से आच्छादित सभी नौ कालोनियों में अतिरिक्त सप्लाई दी जाएगी।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:जनता को नसीब नहीं,प्लांट पी जाता एक चौथाई गंगाजल