शराब कांड पर विक्रेता संघ व प्रशासन आमने-सामने - शराब कांड पर विक्रेता संघ व प्रशासन आमने-सामने DA Image
21 नबम्बर, 2019|4:58|IST

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

शराब कांड पर विक्रेता संघ व प्रशासन आमने-सामने

जहरीली शराब के मसले पर प्रशासन और शराब विक्रेता संघ आमने-सामने आ गए हैं। प्रशासन जहां इस मामले में किसी ब्रांड की शराब को जिम्मेवार मानने के बजाय ठेका संचालक अथवा विक्रेताओं को कसूरवार मान रहा है। वहीं विक्रेता संघ ने इस कांड के लिए शराब आबकारी नीति और प्रशासन पर आरोपाजाय मामले को दबाने में जुटा है।
उधर शराब पीने के कारण अब तक छब्बीस लोगों की जानें जा चुकी हैं। इनमें से छह लोगों ने गुरुवार को दम तोड़ा। इसके अलावा मेरठ के आनंद नर्सिग होम में भर्ती दस मरीजों की हालत नाजुक बनी हुई है। डाक्टरों का कहना है कि इलाज के लिए देरी से अस्पताल में लाने और मिथाइल का प्रभाव पूरे शरीर पर होने के कारण मरीजों की ऐसी हालत हुई है।


जानकारी के अनुसार सिंभावली,बहादुरगढ़,शरीफपुर,ढाड़ा,नानपुर,भगवानपुर गांव में लगातार छठे दिन शराब का कहर जारी रहा। प्रशासन ने कई जगह ठेकों पर छापेमारी कर दो लोगों को गिरफ्त में लिया। प्रशासन की इस कार्रवाई की भनक लगते ही ठेका संचालकों में हड़कंप मच गया और आनन-फानन में वे दुकान का शटर डाऊन कर गायब हो गए।


जहरीली शराब कांड के मामले में प्रशासनिक कार्रवाई को महज दिखावा बताते हुए विक्रेता संघ के अध्यक्ष अनिल कुमार ने इसके लिए आबकारी नीति को जिम्मेवार बताया। साथ ही उन्होंने इस कांड के लिए सुर्खियों में आए करीना ब्रांड बनाने वाली एजेंसी अथवा शराब व्यवसायी का लाइसेंस रिन्यू न करने की पुरजोर मांग की। उन्होंने इस घटना की उच्च स्तरीय जांच कराने की मांग करते हुए कहा कि प्रदेश सरकार जानबूझकर मामले पर पर्दा डालने की कोशिश कर रही है। यदि उसे जनता से जरा भी लगाव है तो वे इस शराब व्यवसायी का लाइसेंस रिन्यू करने के बजाय जांच कराने के बाद दोषी पर हत्या का मामला दर्ज कराए।


दूसरी ओर जिलाधिकारी आर.रमेश कुमार ने कहा कि इस कांड के लिए करीना ब्रांड नहीं बल्कि उस ब्रांड की बोतलों में मिलावट कर शराब बेचने वाले विक्रेता जिम्मेवार है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:शराब कांड पर विक्रेता संघ व प्रशासन आमने-सामने