वैज्ञानिकों ने खोजा पहला प्रारंभिक तारा - वैज्ञानिकों ने खोजा पहला प्रारंभिक तारा DA Image
12 नबम्बर, 2019|1:32|IST

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

वैज्ञानिकों ने खोजा पहला प्रारंभिक तारा

मंदाकिनियां कभी ऐसे दौर से गुजरी थीं कि उन्होंने एक दूसरे को निगलना शुरू कर दिया था। इसका प्रमाण एक नयी खोज से हुआ है।

खगोल विज्ञानियों ने ऐसे प्रारंभिक तारे को खोज निकाला है जो महाविस्फोट बिग बैंग के बाद जन्मे दूसरी पीढ़ी के तारों में से एक हो सकता है।

यह तारा करीब दो लाख 90 हजार प्रकाश वर्ष की दूरी पर बौने मंदाकिनी स्कल्पचर में स्थित है और इसकी रासायनिक संरचना आकाश गंगा के पुराने तारों के समान है।

साइंस डेली ने खबर दी है कि यह इस बात को पुष्ट करता है कि मंदाकिनियां कभी ऐसे चरण से गुजरी थीं, जिसमें उन्होंने एक दूसरे को खाना शुरू कर दिया था। बौनी मंदाकिनियों और मंदाकिनीय निर्माण इकाइयों को खाने से यह बढ़कर वर्तमान आकार का हुआ है।

हार्वर्ड स्मिथसोनियन सेंटर फार एस्ट्रोफिजिक्स की खगोलवैज्ञानिक एना फ्रीबेल ने कहा कि इस तारे की उम्र करीब करीब ब्रहमांड की आयु के बराबर है।

इन खगोल वैज्ञानिक प्रयोगों का प्रकाशन नेचर जर्नल में हुआ है। एना फ्रीबेल ने कहा कि बौनी मंदाकिनियां छोटी आकाशगंगाएं हैं जिसमें कुछ अरब तारे होते हैं।

 

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:वैज्ञानिकों ने खोजा पहला प्रारंभिक तारा