अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

ढाई दशक से भाजपा का रहा दबदबा

चुनावी जंग में यहां पिछले पचीस सालों से भाजपा मुख्य मुकाबले में रहती आयी है। पहले कांग्रेस से भिड़ती रही, अब राजद के साथ दो-दो हाथ कर रही है। 1में लोकदल के रामदेनी राम, फिर 10 और 1में कांग्रेस की कमला कुमारी जीतकर संसद पहुंचीं। भाजपा 1से 1तक लगातार चार लोकसभा चुनावों में जीत हासिल कर चुकी है। 2004 में उसे राजद के हाथों सीट गंवानी पड़ी। उस समय भाजपा के सहयोगी दल जदयू के राधाकृष्ण किशोर भी मैदान में थे। राजद को 32.22 फीसदी, भाजपा को 23.63 तथा जदयू को 16.64 फीसदी वोट मिले थे।ड्ढr मनोज कुमार की लोकसभा की मेंबरी जाने के बाद हुए उपचुनाव में भी यह सीट राजद के खाते में गयी। उस समय भाजपा के उम्मीदवार जवाहर पासवान बनाये गये। पलामू लोकसभा के अधीन छह विधानसभा क्षेत्र आते हैं। डालटनगंज विधानसभा सीट इंदर सिंह नामधारी (निर्दलीय), विश्रामपुर राजद के रामचंद्र चंद्रवंशी, छत्तरपुर राधाकृष्ण किशोर (ादयू), हुसैनाबाद राकांपा के कमलेश कुमार सिंह, गढ़वा राजद के गिरिनाथ सिंह और भवनाथपुर विधानसभा सीट फाब्ला के भानु प्रताप शाही के कब्जे में है।ड्ढr भाजपा किसी से भीख नहीं मांगती: यशवंतड्ढr रांची। गुरुजी ने बहुत देर कर दी। भाजपा के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष पूर्व केंद्रीय मंत्री यशवंत सिन्हा ने दिल्ली से फोन पर बातचीत में कहा कि भाजपा किसी से भीख नहीं मांगती।ड्ढr थक गये तो ठौर तलाश रहे: किशोरड्ढr जदयू विधायक राधाकृष्ण किशोर ने कहा कि गुरुाी जब यूपीए का दरवाजा खटाखटा कर थक गये, तो एनडीए में ठौर तलाशने लगे। एनडीए लोकसभा चुनाव की तैयारी में जुटा है और विधानसभा भंग करने की मांग पर ही भाजपा- जदयू का जोर है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: ढाई दशक से भाजपा का रहा दबदबा