एरोबेटिक टीम पर लगा हादसों का ग्रहण - एरोबेटिक टीम पर लगा हादसों का ग्रहण DA Image
13 नबम्बर, 2019|12:31|IST

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

एरोबेटिक टीम पर लगा हादसों का ग्रहण

एरोबेटिक टीम पर लगा हादसों का ग्रहण

नौसेना की एरोबेटिक (हवा में करतब दिखाने वाली) टीम का एक विमान एयर शो के दौरान दुर्घटनाग्रस्त हो गया, जिसमें दो पायलटों की मौत के अलावा जमीन पर चार अन्य लोग घायल हो गए। पिछले तीन दिनों के भीतर यह दूसरी दुर्घटना है, जिसमें भारतीय सशस्त्र बलों के एरोबेटिक प्रदर्शन टीम शामिल हैं।

27 फरवरी, 2010: भारतीय वायुसेना के सारंग हेलीकॉप्टर का एएलएच ध्रुव प्रदर्शन टीम जैसलमेर में वायु शक्ति के पूर्वाभ्यास के दौरान दुर्घटनाग्रस्त हो गया था।

21 जनवरी, 2009: भारतीय वायुसेना के सूर्य किरण वायु प्रदर्शन टीम (एसकेएटी) के एक पायलट की विमान दुर्घटना में मौत हो गई थी। वह भी किरण एमके-2 विमान उड़ा रहा था।
 
18 मार्च, 2006: एक अन्य सूर्य किरण विमान बीदर के नजदीक दुर्घटनाग्रस्त हो गया था। इसमें विंग कमांडर धीरज भाटिया और स्क्वाड्रन लीडर शैलेन्द्र सिंह की मौत हो गई थी।
 
2010 में हादसे: अब तक इस साल भारतीय वायुसेना ने दो लड़ाकू विमान खो दिए हैं। इनमें एक मिग-27 और दूसरा मिग-21 है। पिछले साल भारतीय वायुसेना ने 11 विमान दुर्घटनाएं दर्ज की थी, जिनमें से पांच दुर्घटनाओं में मिग-21 विमान शामिल थे।

गौरतलब है कि 2003 में गठित सागर पवन टीम ने गोवा में 19 फरवरी को मिग-29 को शामिल किए जाने पर हुए समारोह में भी प्रदर्शन किया था। अमेरिका के ब्लू एंजल्स के साथ यह दुनिया की दो नौसेनिक एरोबेटिक टीमों में से एक है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:एरोबेटिक टीम पर लगा हादसों का ग्रहण