अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

लड़कों का बजा डंका

मैट्रिक परीक्षा-200में झारखंड के 77.82 फीसदी परीक्षार्थी सफल घोषित हुए हैं। परीक्षा में इस बार लड़कों का डंका बजा। कुल 7प्रतिशत छात्र पास हुए, जबकि लड़कियों की सफलता का प्रतिशत 75.32 रहा। पिछले साल की तुलना में रिाल्ट का ग्राफ नौ फीसदी नीचे गिरा है। पिछले साल 86.ीसदी परीक्षार्थी सफल हुए था। शिक्षा सचिव मृदुला सिन्हा ने नौ मई को झारखंड एकेडेमिक कौंसिल सभागार में रिाल्ट जारी किया। सचिव ने रिाल्ट में गिरावट का कारण सिलेबस में बदलाव एवं ग्रेडिंग सिस्टम का लागू होना बताया है। मौके पर कौंसिल ने 2010 का एकेडेमिक कैलेंडर भी जारी किया।ड्ढr मैट्रिक में 3,5851छात्र-छात्राओं ने फार्म भर थे। परीक्षा में शामिल 3,553परीक्षार्थियों में से 276588 पास हुए हैं। यदि रिाल्ट की जिला वार गणना हो, तो कोडरमा अव्वल और जामताड़ा फिसड्डी रहा, धनबाद दूसर और रांची तीसर स्थान पर रहा। राज्य के सभी प्रमंडलों का रिाल्ट पिछले साल की तुलना में सात से14 फीसदी कम रहा। कोलहान में 14, तो संथाल परगना का रिाल्ट 12 फीसदी तक कम रहा। शिक्षा सचिव ने पास छात्र-छात्रओं के उज्ज्वल भविष्य की कामना की। उन्होंने कहा कि सफलता में माता-पिता एवं शिक्षक के योगदान को भुलाया नहीं जा सकता है। निदेशक लक्ष्मण सिंह ने कहा-परिणाम गुणवत्ता युक्त होने पर ही छात्र-छात्राएं प्रतिभा का लोहा मनवा सकेंगे। कौंसिल अध्यक्ष डॉ शालिग्राम यादव ने कहा कि पूर देश में झारखंड माध्यमिक परीक्षा का रिाल्ट जारी करने वाला पहला राज्य बना है। इस मौके पर मेयर रमा खलखो ने और बेहतर शिक्षा एवं मिड डे मिल देने की बात कही। धन्यवाद ज्ञापन सचिव पी तिर्की ने किया। उपाध्यक्ष अब्दुल सुभान, प्राथमिक शिक्षा के निदेशक डॉ डीके सक्सेना, शिक्षक नेता रवंीद्र सिंह, जयनंदन समेत अन्य लोग भी मौजूद थे। नेतरहाट के छात्रों ने लहराया परचमड्ढr रांचीलातेहार। नेतरहाट आवासीय स्कूल के छात्रों ने मैट्रिक की परीक्षा में परचम लहराया है। कुल छात्रों ने मैट्रिक की परीक्षा दी थी। इसमें 13 ने 0 फीसदी से अधिक अंक हासिल किया। 70 फीसदी से कम अंक किसी ने हासिल नहीं किया। स्कूल का टॉपर रहा कुमार सौरभ। उसनेीसदी अंक हासिल किया। वह रावाडीह निवासी (पलामू:) अजय तिवारी के पुत्र हैं।ड्ढr वहीं कुणाल आशीष (पाकुड़) नेीसदी अंक लाकर द्वितीय स्थान प्राप्त किया। मोहम्मद नसीम शफी (धनबाद) कोीसदी अंक आये। विष्णु कुमार दास (दुमका) को मृत्युंजय कुमार सिन्हा (मेदिनीनगर) को निशांत नायक (प.सिंहभूम) आनंद कुमार (मधुपुर) आनंद कुमार राज (गिरिडीह) पंका कुमार (मेदिनीनगर) अजय केसरी (बक्सर) ऋषित रक्षित नेीसदी अंक हासिल किये। वह नेतरहाट के शिक्षक सत्येंद्र के पुत्र हैं। प्राचार्य विनोद कर्ण ने कहा कि परिश्रम का फल मीठा होता है। ँ

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: लड़कों का बजा डंका