अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

..यूं ही गुरुद्वारा नहीं बन जाता डेरा

पंजाब में सिख अल्पसंख्यक हैं या नहीं इस पर अभी फैसला होना बाकी है लेकिन सुप्रीम कोर्ट ने एक फैसले में स्पष्ट किया है कि किसी डेर में गुरु ग्रंथ साहिब रखने भर से वह सिख गुरुद्वारा नहीं बन जाता। इसके लिए निशान साहिब, गुरुग्रंथ साहिब का संगत के साथ रोाना प्रकाश, नियमित ग्रंथी और गुरुद्वारे के प्रबंधन पर सिख गुरुद्वारा कमेटी का नियंत्रण होना आवश्यक है। यह कहते हुए सर्वोच्च अदालत ने शिरोमणि गुरुद्वारा प्रबंधक कमेटी (एजीपीसी) की अपील खारिा कर दी और पंजाब के मलेर कोटला तहसील स्थित आश्रम को सिख गुरुद्वारा घोषित करने का गुरुद्वारा ट्राइब्यूनल का आदेश रद्द कर दिया और कहा कि यह गुरुद्वारा नहीं बल्कि ‘उदासीन पंथ‘ का ‘डेरा भगत भगवान’ है जिसका सिखों से कोई मतलब नहीं है। जस्टिस तरुण चटर्ाी और वीएस सिरपुरकर की खंडपीठ ने फैसले में कहा कि महा गुरुग्रंथ साहिब के रखने से भर कोई पूजा स्थल गुरुद्वारा नहीं बन जाता। 1665 में पटियाला के महाराजा द्वारा दी गई 400 बीघा जमीन पर फैला यह डेरा उदासी फकीर सूरत राम ने स्थापति किया था। तब से इसका संचालन बिना रुके गुरु-चेला परंपरा से होता आ रहा है और महंत प्रेम दास इसके नौवे महंत हैं, जबकि गुरुद्वारे के प्रबंधन में गुरु-चेला परंपरा नहीं मानी जाती। वहीं डेरे में निशान साहिब भी नहीं पाया गया जबकि गुरुद्वारों का यह प्रमुख संकेत है। खंडपीठ ने कहा कि डेर में पूर्व के आठ गुरुओं की समाधियां और मूर्तियां हैं। यहां इन सामधियों की राख की पूजा होती है। ग्रंथ साहिब यहां रखा हुआ है लेकिन उसका कोई तय स्थान नहीं है। महा आदर के कारण ही इस ग्रंथ को यहां रखा गया है। यहां नियमित ग्रंथी नहीं है जो ग्रंथ साहिब का जाप करवाता हो। इसके अलावा सभी गुरुद्वारे किसी संत या शहीद गुरु के नाम पर स्थापित किए जाते हैं लेकिन इस केस में डेर का नाम किसी सिख गुरु के नाम पर नहीं है। ट्राइब्यूनल ने कुछ लोगों की याचिका पर डेरा भगत भगवान को गुरुद्वारा साहिब गुरुद्वारा भगत भगवान घोषित कर दिया। ट्राइब्यूनल का कहना था कि भगत भगवान शुरू में संन्यासी थे लेकिन सिखों के सातवें गुरु हरराय के संपर्क में आकर वह सिख बन गए थे। इस फैसले को 2002 में हाईकोर्ट ने पलट दिया जिसे एसजीपीसी ने सुप्रीम कोर्ट में चुनौती दी ।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: ..यूं ही गुरुद्वारा नहीं बन जाता डेरा