DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

महादलितों का उत्थान कोई नहीं रोक सकता

मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने दावा किया है कि महादलितों का उत्थान अब कोई नहीं रोक सकता है।ड्ढr विधानपरिषद में गुरुवार को कांग्रस की ज्योति द्वारा दलितों को बांटने का आरोप लगाने से नाराज मुख्यमंत्री ने कहा कि अति पिछड़ों के हक पर सवाल उठाने वालों को पिछड़ा कहलाने का हक नहीं उसी तरह महादलितों के हक पर सवाल उठाने वालों को दलित कहलाने का कोई हक नहीं। यही नहीं ऐसे लोग संविधान के विरोध में बातें कर रहे हैं। मुख्यमंत्री राज्यपाल के अभिभाषण पर सरकार का जवाब दे रहे थे। मुख्यमंत्री ने कहा कि महादलितों के उत्थान के लिए जो कुछ किया जा रहा है वह किसी के वाजिब अधिकार में कटौती कर नहीं हो रहा।ड्ढr ड्ढr दलितों की तमाम योजनाओं का कार्यान्वयन करते हुए महादलितों के कल्याण के लिए भी योजनाएं लाई गई हैं। इससे दलितों या अन्य किसी वर्ग की योजना प्रभावित नहीं हो रही हैं। फिर महादलितों का विरोध क्यों? उन्होंने कहा कि गांवों में महादलित जग गए हैं और अपने अधिकारों के प्रति जागरुक हैं। उन्होंने महादलितों को बांटने का आरोप लगाने वालों को गांव घूमकर देखने की चुनौती भी दी।ड्ढr ड्ढr मुख्यमंत्री ने शिक्षकों को ठेके पर बहाल करने के विपक्ष के आरोपों को भी खारिज कर दिया और कहा कि उनका नियोजन किया गया है। हालांकि छठे वेतनमान पर शिक्षकों की नियुक्ित मामले में उन्होंने हाथ खड़े कर दिए और कहा कि ऐसे में तीन लाख शिक्षकों की बहाली में बिहार सरकार का बजट भी कम पड़ जाएगा। इसके पूर्व अभिभाषण में विपक्ष के नेता गुलाम गौस, केदार पांडेय, उषा सहनी, रामवचन राय, ज्योति, तनवीर हसन, मुन्द्रिका सिंह यादव ने भी बहस में हिस्सा लिया।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: महादलितों का उत्थान कोई नहीं रोक सकता