अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

बांग्लादेश में तंीन दिन का राष्ट्र्रीय शोक

बांग्लादेश सरकार ने बुधवार को हुई बगावत में शहीद बांग्लादेश राइफल्स (बीडीआर) के शहीद अफसरों की स्मृति में तीन दिन के राष्ट्र्रीय शोक की घोषणा की है। इस बीच ब्रिगेडियर जनरल मैनुल हुसैन को बीडीआर का नया महानिदेशक नियुक्त किया गया है। विद्रोही बीडीआर जवानों ने बीडीआर के महानिदेशक मेजर जनरल शकील अहमद की हत्या कर दी थी। प्रधानमंत्री शेख हसीना के प्रेस सचिव अबुल कलाम आजाद ने बताया कि बगावत की घटना की जांच के लिए एक उच्च स्तरीय समिति का गठन किया गया है। उन्होंने बताया कि मेजर जनरल अहमद की हत्या में शामिल लोग आम माफी के अंतर्गत नहीं आएंगे और उन पर कानून के अनुसार मुकदमा चलाएगा। उधर. बांग्लादेश की प्रधानमंत्री शेख हसीना ने बांग्लादेश राइफल्स (बीडीआर) में विद्रोह के काबू में आने के बाद सभी से आग्रह किया है कि वे सजग रहे ताकि अब कोई इस तरह की गतिविधियों में लिप्त नहीं हो। ढाका छावनी में संयुक्त सैन्य अस्पताल में घायल बीडीआर जवानांे ंको देखने पहुंची हसीना ने कहा कि सभी को सजग रहना होगा ताकि फिर कोई ऐसी हरकत ना कर सके क्योंकि भड़काने वाले खेल अभी बंद नहीं हुए हैं। उन्होंने कहा कि यद्यपि उन्होंने बागी जवानों को आम माफी देने का ऐलान किया है परन्तु हत्याआें में शामिल लोगों को माफ नहीं किया जाएगा। प्रधानमंत्री ने कहा कि ऐसा प्रतीत होता है कि सभी जवान विद्रोह में शामिल नहीं थे। संभवत कुछ गुटों ने यह साजिश रची थी। यह भी जांच करनी होगी कि कहीं किसी गुट ने इन जवानो ंको भड़काया तो नहीं था। उन्होंने यह भी कहा कि इस बात की भी तहकीकात होगी कि कहीं इस घटना का कोई और मकसद तो नहीं था। पुलिस ने शुक्रवार को 3शव बरामद किए जिनमें बीडीआर के प्रमुख मेजर जनरल शकील अहमद का शव शामिल है। इस तरह मारे गए लोगों की अधिकृत संख्या 61 हो गई है। जिनमें अधिकांश कर्नल और मेजर रैंक के अधिकारी शामिल हैं

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: बांग्लादेश में तंीन दिन का राष्ट्र्रीय शोक