अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

बड़े भाई पलट गए

बड़े और छोटे भाइयों में मुलाकात हुई। बात हुई। धन भी दिया। मगर चुनाव में कामयाबी के लिए आशीर्वाद की मांग हुई तो बड़े भाई पलट गए। बड़े भाई बाढ़ राहत का चेकर लेकर छोटे भाई के पास पहुंचे। दोनों गदगद हुए। इस दृश्य को देखने के लिए कई पुराने लोग जुटे थे। निकलते वक्त एक पत्रकार ने पूछा-छोटे भाई को चुनाव जीतने का आशीर्वाद दे रहे हैं न। बड़े भाई ने पलटी मारी-कैसा आशीर्वाद। ये (छोटे भाई) कहां चुनाव लड़ रहे हैं जो हम आशीर्वाद दें। शिलान्यास में बंटे लड्डूड्ढr गांधी म्ैादान में शिलान्यास और उद्घाटन में पहुंचे लोगों ने जमकर लड्डूओं की दावत उड़ाई। लड्डूओं की यह दावत एनबीसीसी की ओर से थी। हालांकि आम राजद कार्यकर्ता लड्डू लेने में ज्यादा ‘इंटरस्टेड’ नहीं दिखे। झक्क सफेद कुर्ता पायजामा में गांधी मैदान पहुंचे कार्यकर्ताओं ने लड्डू की ओर आंख उठा कर भी नहीं देखा। लड्डुओं का एक बड़ा हिस्सा रिक्शा, ठेला और खोमचा वालों के हाथ लगा। बाद में मामला छीना छपटी तक पहुंच गया, जिसे काफी मुश्किल से शांत कराया गया। साहब चले चुनाव लड़नेड्ढr बिहार के लोकसभा चुनाव में कुछ आईएएस और आईपीएस अधिकारी चुनाव लड़ने की तैयारी कर रहे हैं। बिहार क ैडर के अधिकारी रहे सज्जन झारखंड से सांसद बने और केंद्र सरकार में मंत्री बन गए हैं। ऐसे में अनेक अधिकारियों का राजनीति पर दिल आ गया है। फिलहाल ऐसे अधिकारी अपने क्षेत्रों का भ्रमण कर रहे हैं। मरने-ाीने से लेकर शादी- ब्याह तक का वे ख्याल कर रहे हैं। जनता से सीधा सम्पर्क साधने का यह अच्छा अवसर है। क्षेत्र भ्रमण के साथ पॉलिटिकल शिक्षा प्राप्त करने के लिए वे किसिम-किसिम के नेताओं से राजनीति के गुर सीख रहे हैं। लेकिन असली सवाल यह है कि पार्टियां किसे अपना टिकट देती हैं।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: बाकी सब बकवास