अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

इग्नू का 20वां दीक्षांत समारोह

विनोबा भावे विवि के वाइस चांसलर प्रोफेसर अरविंद कुमार ने विद्यार्थियों से कहा कि शिक्षा के साथ-साथ व्यावहारिक जगत में भी सफल बनें। विद्यार्थियों को व्यवहार कुशल होना चाहिए। प्रोफेसर कुमार शनिवार को इग्नू रिानल सेंटर रांची के 20वें दीक्षांत समारोह में बोल रहे थे। कहा कि आनेवाली चुनौतियों से घबरायें नहीं, बल्कि लक्ष्य को जीवन में हमेशा सामने रखें। लक्ष्य हमेशा बेरहम होता है, जो सुख सुविधा का त्याग मांगता है। इसलिए प्रबुद्ध भारतीय की तरह रोशनी का वाहक बने और उस मुकाम तक पहुंचे, जहां रोशनी न पहुंच रही हो। इसके पूर्व गोस्सनर थियोलॉजिकल कॉलेज सभागार में आयोजित दीक्षांत समारोह का उद्घाटन मुख्य अतिथि और रिानल निदेशक जेएन शिवकुमार ने दीप जलाकर किया। समारोह में इग्नू द्वारा संचालित सत्र 2008-0े 685 विद्यार्थियों को प्रमाणपत्र दिया गया। इसमें एमसीए, बीसीए, बीएड सहित कई शैक्षणिक कोर्स के विद्यार्थी शामिल थे। कार्यक्रम के पूर्व दिल्ली में आयोजित दीक्षांत समारोह का टेली कांफ्रेंस के माध्यम से सीधा प्रसारण किया गया। मालूम हो कि 28 फरवरी को देश भर में इग्नू के 3सेंटरों में एक साथ दीक्षांत समारोह का आयोजन किया गया। कार्यक्रम में इग्नू रिानल सेंटर के निदेशक ने सेंटर द्वारा संचालित कोर्स की जानकारी दी। मौके पर इग्नू के शिक्षक डॉ मोती राम, डॉ अरविंद मनोज कुमार सिंह, बसंत कुमार सिंह सहित विद्यार्थियों के अभिभावक भी उपस्थित थे।ड्ढr अभिलाषा को गोल्ड मेडलड्ढr समारोह में रांची रिानल सेंटर की अभिलाषा कुमारी को गोल्ड मेडल मिला। अभिलाषा ने डिप्लोमा इन प्राइमरी एजुकेशन के लिए मेडल हासिल किया। इग्नू रांची रिानल सेंटर से 40 हाार से भी अधिक विद्यार्थी पढ़ाई कर रहे हैं। डॉ बसंत कुमार के अनुसार 22 मार्च 2000 में इसकी शुरुआत हुई थी।ड्ढr छात्रों ने कहा, बेहतर है इग्नू का स्टडी मटेरियलड्ढr रांची। इग्नू की डिग्री हासिल करने वाली धनबाद की प्रीति ने कहा कि इग्नू का स्टडी मटेरियल विद्यार्थियों के लिए बेहतर है। प्रीति इग्नू से इतिहास ऑनर्स इएचआइ कर रही है। बोकारो थर्मल की संध्या ने बीएलआइएस कोर्स के लिए डिग्री हासिल की। उन्होंने कहा कि जॉब करते हुए इग्नू से आप बेहतर पढ़ाई कर सकते हैं। इनका मानना है आज यहां के कोर्स के स्कोप काफी बढ़ गये हैं। इग्नू सेंटर रांची की प्रोग्राम असिस्टेंट शीतल ने इग्नू को अपने करियर के लिए महत्वपूर्ण बताया। उन्होंने कहा कि आज उसे बीसीए की डिग्री मिली है। अब वह यहां से वह एमसीए करना चाहती है। डीएवी अशोकनगर की शिक्षिका ने बीएड की डिग्री के लिए इग्नू का आभार जताया। उनका मानना है कि इग्नू से बीएड की डिग्री लेना गर्व की बात है। यहां के स्टडी मटेरियल और कोर्स का कोई मुकाबला नहीं है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: इग्नू का 20वां दीक्षांत समारोह