अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

ब्रह्मोस का परीक्षण अब 4 मार्च को होगा

सुपर सोनिक मिसाइल ब्रह्मोस का परीक्षण 4 मार्च को जैसलमेर जिले की चांदन फील्ड फायरिंग रेंज में किया जाएगा। इसी रेंज में गत 20 जनवरी को परीक्षण के दौरान मिसाइल के लक्ष्य भेदने में विफल रहने के बाद इसके साफ्टवेयर में परिवर्तन कर पुन: परीक्षण किया जा रहा है। इसका दोबारा परीक्षण 20 फरवरी को होना था लेकिन तकनीकी खामी दूर नहीं होने के कारण अब चार मार्च को परीक्षण की तिथि तय की गई है। भारत और रूस की संयुक्त परियोजना के तहत रक्षा अनुसंधान एवं विकास संगठन (डीआरडीआे) द्वारा विकसित ब्रह्मोस मिसाइल के परीक्षण से संबंधित तैयारियां अंतिम चरण में हैं। रेंज के पास कुंजराली गांव और ढाणी को खाली कराया जाएगा। विश्वसनीय रक्षा सूत्रों के अनुसार दागो और भूल जाआे वाली सुपर सोनिक मिसाइल ब्रह्मोस के गाइडेड सिस्टम एवं साफ्टवेयर में चिन्हित कमियों को सुधारने के बाद नए सिरे से इसका परीक्षण किया जा रहा है। परीक्षण के लिए चांदन में लांचिंग पेड और अजासर गांव के पास लक्ष्य बिंदु बनाए गए हैं। इसी रेंज में 21 दिसंबर 2004 और 31 मई 2006 को भी परीक्षण किया गया था। ब्रह्मोस को नौ सेना में पहले ही शामिल किया जा चुका है। अब इसे वायु सेना में शामिल करने की तैयारियां की जा रही है। इसके लिए दो सुखाई-30 विमान रूस भेजे जा चुके है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: ब्रह्मोस का परीक्षण अब 4 मार्च को होगा