DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

चावला का मुख्य चुनाव आयुक्त बनना तय

चुनाव आयुक्त नवीन चावला के अगले मुख्य चुनाव आयुक्त बनने का रास्ता साफ हो गया है। मुख्य आयुक्त गोपालस्वामी ने चावला पर पार्टी विशेष से नजदीकी और पक्षपात का आरोप लगाते हुए राष्ट्रपति प्रतिभा पाटिल को पत्र लिखकर उन्हें पद से हटाने की सिफारिश की थी। यह सिफारिश रविवार को राष्ट्रपति ने खारिा कर दी। इसके साथ ही यह सुनिश्चित हो गया कि गोपालस्वामी के 20 अप्रैल को रिटायर होने के बाद चावला ही मुख्य नर्वाचन आयुक्त होंगे। इस बार में सरकार अपनी मंशा पहले ही साफ कर चुकी है। गोपालस्वामी की सिफारिश के कुछ ही दिन बाद कानून मंत्री एच.आर.भारद्वाज ने कहा था कि इस विवाद से चावला का करियर प्रभावित नहीं होगा। गोपालस्वामी ने राष्ट्रपति द्वारा उनकी सिफारिश नामंजूर किए जाने पर कोई टिप्पणी करने से इनकार किया है। 1बैच के आईएएस अधिकारी चावला को मई 2005 में चुनाव आयुक्त पद पर नियुक्त किया गया था। वह 2010 तक इस पैनल में रहेंगे। अप्रैल-मई मं संभावित आम चुनाव अब शायद वह ही सम्पन्न करवाएंग। चुनाव की घोषणा शीघ्र हो सकती है। राष्ट्रपति भवन मं तैनात विशेष अधिकारी अर्चना दत्ता न कहा कि राष्ट्रपति न गोपालस्वामी की सिफारिश पर ‘गंभीरतापूर्वक विचार’ करते हुए चुनाव आयुक्त की रिपोर्ट, सरकार की सिफारिश, संविधान के प्रावधानों तथा उच्चतम न्यायालय के पिछले फैसले के आधार पर ही निर्णय लिया है। चावला को हटान संबंधी विवाद मार्च 2006 स चला आ रहा है। उस वक्त लालकृष्ण आडवाणी और 204 अन्य सांसदों न उन्हें हटान क लिए तत्कालीन राष्ट्रपति कलाम को ज्ञापन सौंपा था। पर सरकार को उसमं कोई दम नहीं दिखा। इसक बाद भाजपा इस मुद्द को सर्वोच्च न्यायालय तक ल गई लकिन पार्टी न अगस्त 2007 मं याचिका वापस ल ली। संविधान विश्लेषकों का मानना है कि लोकसभा चुनाव की प्रक्रिया शुरू होने के बाद भी चावला को मुख्य चुनाव आयुक्त बनाने की घोषणा की जा सकती है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: चावला का मुख्य चुनाव आयुक्त बनना तय