अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

आपाधापी के बीच मैट्रिक की ‘अग्निपरीक्षा’

भारी अफरातफरी के माहौल में कल से राज्य के सभी जिला और अनुमंडल मुख्यालयों में बिहार बोर्ड की मैट्रिक परीक्षा शुरू होगी। परीक्षा केन्द्र वाले हर छोटे-बड़े शहरों में परीक्षार्थियों और उनके अभिभावकों की भारी भीड़ के कारण ही नहीं परीक्षा केन्द्रों की व्यवस्था को लेकर भी अराजक माहौल है। इस बार लगभग नौ लाख परीक्षार्थी हैं जबकि पिछले साल इनकी संख्या सात लाख 35 हाार थी। प्रशासन ने सुरक्षा और कदाचार मुक्त परीक्षा का पुख्ता इंतजाम करने का दावा किया है लेकिन परीक्षार्थियों के आवास और खाने-पीने की चीजों के दाम पर उसका कोई नियंत्रण नहीं।ड्ढr औरंगाबाद में सात दिन के लिए एक कमर का किराया दो से ढाई हाार जबकि भभुआ और मोहनिया में दस दिन के यह साढ़े सात सौ रुपए तक पहुंच गया है।ड्ढr ड्ढr भभुआ में तो होटल वालों ने खाने का रट प्रति प्लेट दो रुपया बढ़ा दिया है। वहां किरासन 35 रुपए लीटर मिल रहा है। जबकि सब्जी का भाव प्रति किलो औसतन तीन से पांच रुपए बढ़ गए हैं। बिजली की हालत जगजाहिर है, सो छोटे शहरों में बच्चों को पढ़ने के लिए लालटेन और खाना पकाने के लिए किरासन की समस्या भी तो बड़ी विकट है। हालांकि कुछ शहरों में प्रशासन ने इसकी बिक्री की अतिरिक्त व्यवस्था की है लेकिन कहां और कब से कब तक बिकेगा इसकी सार्वजनिक मुकम्मल सूचना नहीं है। इसबार परीक्षा की वीडियोग्राफी भी होगी।ड्ढr ड्ढr बेंच-डेस्क का टोटाड्ढr सासाराम में तो कई परीक्षा केन्द्रों पर परीक्षार्थियों के बैठने का पूरा इंतजाम न हो सका था। रविवार देर शाम तक शिक्षा विभाग के अफसर वैसे शिक्षण संस्थानों से बेंच और मेज जुटाने की मशक्कत करते रहे, जहां परीक्षा केन्द्र नहीं हैं। कई स्कूलों में तो शामियाने और पंडाल में परीक्षा लेने की व्यवस्था की गयी है। सीवान के राजवंशी देवी बालिका उच्च विद्यालय सेंटर पर 784 परीक्षार्थी है। यहां इनमें से 300 के लिए शामियाने का इंतजाम है।ड्ढr होटल और लॉज कम पड़ेड्ढr छपरा में लॉज होटल कम पड़ गए हैं। माड़र से यहां परीक्षा देने आए धनंजय, शिवशंकर और राज वल्लभ ने बताया कि मासूमगंज मंे उन्होंने एक कमरा एक हाार में लिया है। औरंगाबाद, भभुआ, मोहनिया, नवादा, लखीसराय, खगड़िया, बक्सर आदि से भी इसी तरह की रिपोर्ट आयी है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: आपाधापी के बीच मैट्रिक की ‘अग्निपरीक्षा’