DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

बाई नेशन थ्योरी ने ही कराया विभाजन

यूं तो देश विभाजन में उस समय की सामाजिक व राजनीतिक स्थितियां कम जिम्मेवार नहीं हैं पर मो. अली जिन्ना की बाई नेशन थ्योरी (दो राष्ट्रीय सिद्धांत) ने इसमें अहम भूमिका निभाई। फिरंगियों ने हिन्दू-मुस्लिम के बीच ‘फूट डालो और शासन करो’ की नीति अपनाकर देश विभाजन में आग में घी का काम किया। रविवार को खुदा बख्श लाइब्रेरी में ‘भारत का विभाजन क्यों हुआ? ’ विषय पर आयोजित व्याख्यान में दक्षिण एशिया अध्ययन विभाग, जेएनयू के पूर्व प्रोफेसर विमल प्रसाद ने देश विभाजन के लिए हिन्दू-मुस्लिम धार्मिक जागृति को भी इसका एक कारण बताया। वैसे अल्लामा इकबाल व रहमत अली भी इसके लिए कम जिम्मेवार नहीं हैं।ड्ढr ड्ढr इंडिया काउंसिल फॉर साउथ एशियन कॉपरशन तथा गांधी नेशनल संग्राहलय के अध्यक्ष प्रो. विमल ने कहा कि आजादी के पहले दोनों समुदाय एक साथ रहते थे। दोनों एक -दूसर के पर्व में बढ़-चढ़ कर हिस्सा लेते थे। अध्यक्षता करते हुए त्रिपुरा के पूर्व राज्यपाल प्रो. सिद्धेश्वर प्रसाद ने कहा कि हिन्दू व मुसलमान में कोई अन्तर नहीं है। दोनों देश के सच्चे सिपाही हैं। इतिहासकार व लाइब्रेरी के निदेशक डा. इमत्याज अहमद ने धन्यवाद ज्ञापन किया।ड्ढr ड्ढr सेमिनार संपन्नड्ढr पटना (सं.सू) । महान वैज्ञानिक डा. सीवी रामन की स्मृति में एससीईआरटी द्वारा आयोजित दो दिवसीय सेमिनार को रविवार संपन्न हुआ।कार्यक्रम की अध्यक्षता संस्थान के निदेशक हसन वारिस ने की। सेमिनार में विज्ञान एवं गणित शिक्षण-समस्याएं और समाधान पर विशेषज्ञों ने अपने विचार रखे। इस मौके पर प्रो. एसपी सिंह, हृदयकांत दिवान, डा. नफासत करीम, डा. अब्दुल मोइन और डा. अखिलेश्वरी नाथ ने विस्तार से चर्चा की।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: बाई नेशन थ्योरी ने ही कराया विभाजन