अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

अब दुखा भगत बगावत पर

लोकसभा चुनाव के टिकट बंटने के बाद भाजपा के एक और वरिष्ठ नेता ने बगावत का झंडा उठा लिया है। पूर्व प्रदेश अध्यक्ष सह पूर्व सांसद प्रो दुखा भगत ने कहा है कि वह पार्टी के फैसले से नाराज हैं। इसलिए वह शीघ्र भाजपा से इस्तीफा देंगे। इसके बाद उनके झाविमो में शामिल होने की संभावना है। इधर उनके नजदीकी सूत्रों के अनुसार झाविमो ने अगर उन्हें लोहरदगा से प्रत्याशी बनाया तो ठीक, अन्यथा डॉ बहुरा एक्का के पक्ष में वह चुनाव प्रचार करंगे। लोहरदगा में वह झाविमो के स्टार प्रचारक बनेंगे। मालूम हो कि भाजपा ने लोहरदगा से उन्हें टिकट न देकर पूर्व मंत्री सुदर्शन भगत को अपना प्रत्याशी बनाया है।ड्ढr इससे पूर्व जमशेदपुर से टिकट नहीं मिलने पर पूर्व मंत्री और भाजपा विधायक डॉ दिनेश षाड़ंगी ने भी बगावती तेवर अपना लिया है। उन्होंने विधायकी से इस्तीफा देने की घोषणा की है। हालांकि अब तक उन्होंने इस्तीफा नहीं दिया है। सूत्रों के अनुसार भाजपा के शीर्ष नेताओं के मनाने पर उनका गुस्सा कुछ शांत हुआ है, पर टिकट नहीं मिलने के जख्म अभी भर नहीं हैं। वहीं गोड्डा सीट से निशिकांत दुबे को प्रत्याशी बनाये जाने से अशोक भगत और राज पालिवाल सरीखे कुछ नेताओं के भी नाराज होने की बात सामने आ रही है। हालांकि बातचीत में वह इससे इंकार कर रहे हैं। दूसरी ओर विधायक राजकिशोर महतो ने खुल कर धनबाद और गिरिडीह को महतो बहुल सीट बताते हुए टिकट बंटवार को गलत बताया है। (हिब्यू)

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: अब दुखा भगत बगावत पर